fbpx
SOLAR ECLIPSE

साल का अंतिम सूर्य ग्रहण जानें कब, कहां और कैसे देखें लाइव सूर्यग्रहण !

25 अक्तूबर को साल का दूसरा और अंतिम सूर्य ग्रहण लगेगा। ये सूर्य ग्रहण 4 घंटे, 3 मिनट का होगा। सूर्य ग्रहण दोपहर में 02 बजकर 29 मिनट पर लगेगा और शाम 06 बजकर 32 मिनट पर होगा खत्म।

भारत में इसकी शुरुआत शाम को 04 बजकर 22 मिनट से होगी और यहां यह सूर्यास्त के साथ ही समाप्त हो जाएगा।इस बार के सूर्य ग्रहण पर ग्रहों की स्थिति बहुत ही अलग है। बताया जा रहा है इससे पहले 1995 में सूर्य ग्रहण पर ऐसी स्थिति बनी थी। इस बार के सूर्य ग्रहण पर तुला राशि में चार ग्रह एक साथ बैठे हैं। तुला राशि में राहु, सूर्य, शुक्र, चंद्रमा विराजमान है।

ये ग्रहण मुख्य रूप से यूरोप, उत्तरी-पूर्वी अफ्रीका और पश्चिम एशिया के कुछ हिस्सों में नजर आएगा। भारत में ग्रहण नई दिल्ली, बेंगलुरु, कोलकाता, वाराणसी, मथुरा, चेन्नई और उज्जैन में आंशिक रूप से नजर आएगा।

सूतक काल क्या होता है और कब लगता है?

सूतक  सूर्यग्रहण और चंद्रग्रहण से पूर्व की एक निश्चित समयावधि को कहते हैं। इस काल के समय पृथ्वी का वातावरण दूषित होता है। सूतक काल में अशुभ दोषों से बचाव के लिए कुछ सावधानी बरतनी चाहिए।

यह भी पढ़ें : छठ पूजा के पावन मौके पर डालते हैं नजर देश के उन प्रसिद्ध मंदिरों पर जहां होती है सूर्य देव की पूजा-

सूतक सूर्यग्रहण से 12 घंटे पहले लगता है। भारत में सूर्य ग्रहण का आरंभ शाम 04:22 से होगया, ऐसे में यहां सूतक 25 अक्तूबर को ही सुबह 04:22 मिनट से लागू हो जाएंगे। यानि दिवाली की अगली सुबह ही सूतक काल लगेगा। सूतक के दौरान कुछ नियमों का पालन करना आवश्यक है। आइए जानते हैं क्या हैं वो जरूरी नियम।

ग्रहण के दौरान क्या नही करना चाहिए :

इन बातों का विशेष ध्यान दें –

ग्रहण में भोजन नही बनाया जाता है और न ही ग्रहण किया जाता। हालांकि बीमार, वृद्ध और गर्भवती महिलाओं के लिए इस तरह के नियम लागू नहीं हैं।

यदि आप भोजन पहले से बना चुके हैं तो उसमें तुलसी का पत्ता तोड़कर डाल दें। दूध और इससे बनी चीजों, पानी में भी तुलसी का पत्ता डालें। तुलसी के पत्ते के कारण दूषित वातावरण का प्रभाव खाद्य वस्तुओं पर नहीं पड़ता।

सूर्य ग्रहण कभी भी नग्न आँखों से नही देखना चाहिए।

SOLAR ECLIPSE

यह भी पढ़ें: सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) से एक दिन पहले मंदिरों के द्वार बंद कर दिए जाएंगे

सूतक लगने के साथ गर्भवती महिलाएं विशेष रूप से ध्यान रखें। सूतक काल से लेकर ग्रहण पूरा होने तक घर से न निकलें और अपने पेट के हिस्से पर गेरू लगाकर रखे और गीता का पाठ करें।

इस काल में गर्भवती स्त्री किसी भी प्रकार की नुकीली वस्तुओं का इस्तेमाल न करें और न ही कुछ काटें।

सूतक काल में पूजा पाठ न करें। इसके स्थान पर मानसिक जाप करना फलदायी रहेगा।

इन राशियों को मिलने वाली है खुशखबरी :

सूर्य ग्रहण से कर्क, सिंह और धनु राशियों को मिलने वाला है शुभ समाचार। कर्क राशि वालों को जहां धन आगम के साधन बनेंगे, वहीं सिंह राशि वालों को आर्थिक तंगी से छुटकारा मिलेगा। इस राशि के लोगों को बिजनेस में भी लाभ होगा।

वहीं  धनु राशि जो शनि की साढ़ेसाती से पीड़ित थी, लेकिन अब मार्गी होने पर लाभ पा रही है। ग्रहण के बाद भी इन राशि वालों को लाभ मिलने वाला है ।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

नए साल 2024 में, जाग उठेगा सोया हुआ भाग्य, राशिनुसार करें ये उपाय! “बॉलीवुड के गहरे राज़: माफिया से रहस्यमय मोहब्बत में पड़ बर्बाद हुई टॉप बॉलीवुड एक्ट्रेस, कुछ नाम आपको चौंका देंगे!” सर्दियों में खाने के लिए 10 ऐसे पत्तों की औषधि, जो आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद हैं। इन सर्दियों में ऐसे रहें फिट, खाएं ये पौष्टिक आहार ! कर्ज से चाहिए छुटकारा, शुक्रवार के दिन कर लें काम! इन तरीकों से खुद को रखें तंदरुस्त I वास्तु शास्त्र के अनुसार करें इन गलतियों को सही, घर में होगा माँ लक्ष्मी का प्रवेशI