fbpx
cancer पेशेंट्स

इतिहास में ऐसा हुआ पहली बार, इस भयानक बीमारी से अब 6 महीने में मिलेगी राहत!

यह बीमारी आज भी दुनिया के लिए बड़ा खतरा बना हुआ है। मेडिकल साइंस हर दिन नए चमत्कार कर रहा है। डॉस्टरलिमेब प्रयोगशाला द्वारा निर्मित अणुओं वाली एक दवा है, जो मानव शरीर में सब्सीट्यूट एंटीबॉडी के रूप में कार्य करती है। परीक्षण के दौरान, यह पता चला है कि रोगियों ने 6 महीने तक हर तीन सप्ताह में दवा ली। सभी मरीज इस भयानक बीमारी के समान चरणों में थे। यह उनके मलाशय में था, लेकिन शरीर के अन्य अंगों में नहीं फैला था।

रोगियों को अपने कैंसर को मिटाने के लिए पिछले इलाजों में कीमोथेरेपी, रेडिएशन और आक्रामक सर्जरी का सामना करना पड़ता था, जिसके परिणामस्वरूप आंत, मूत्र और यहां तक कि यौन रोग जैसी स्थायी समस्याएं भी हो जाती हैं।

ड्रग ट्रायल में हर मरीज को मिला कैंसर से छुटकारा:

इसी बीच एक ऐसी दवा का ट्रायल किया गया है जिससे हर मरीज को कैंसर से छुटकारा मिला है। मलाशय के कैंसर यानी रेक्टल कैंसर के इलाज के लिए एक दवा की शुरुआती ट्रायल में शामिल किए गए 18 मरीजों को बीमारी से छुटकारा मिला है। शारीरिक परीक्षणों जैसे एंडोस्कोपी, पॉजिट्रॉन एमिशन टोमोग्राफी या पीईटी स्कैन या एमआरआई स्कैन में भी कैंसर का नामोनिशान नहीं मिला।

यह भी पढ़ें: भगवान् साबित हुए ये डॉक्टर,अपना खून देकर मरीज की बचाई जान

एक बहुत ही छोटे क्लीनिकल ट्रायल में 18 रोगियों ने लगभग छह महीने तक डॉस्टरलिमेब नामक दवा ली और अंत में, उनमें से प्रत्येक ने अपने ट्यूमर को गायब होते देखा।

अविश्वसनीय प्रशिक्षण:

इस परीक्षण का जो नतीजा आया, उसने चिकित्सा की दुनिया में तहलका मचा दिया है। मीडिया से बात करते हुए, कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय में कोलोरेक्टल कैंसर विशेषज्ञ के तौर पर काम करने वाले डॉ. एलन पी. वेनुक ने कहा कि सभी मरीजों में कैंसर का पूरी तरह से खत्म होना ‘अविश्वसनीय’ है।

A Tool Doctors Use Every Day Can Perpetuate Medical Racism - Scientific American

उन्होंने इस शोध को दुनिया का पहला शोध बताया, जहां सभी रोगी ठीक हो गए। उन्होंने यह भी कहा कि यह विशेष रूप से प्रभावशाली था क्योंकि सभी रोगियों को परीक्षण दवा के दौरान महत्वपूर्ण जटिलताओं का सामना नहीं करना पड़ा। खास बात यह है कि इस दवा के कोई साइड इफेक्ट नहीं दिखायी दिए हैं।

डॉस्टरलिमेब दवा में है एंटीबॉडी:

डॉस्टरलिमेब एक मोनोक्लोनल दवा है, जो मानव शरीर में एंटीबॉडी के रूप में काम करती है। मोनोक्लोनल एंटीबॉडी कैंसर कोशिकाओं की सतह पर पीडी-1 नामक विशेष प्रोटीन के साथ मिलकर काम करती है। यह प्रतिरक्षा प्रणाली को कैंसर कोशिकाओं की पहचान करके उन्हें नष्ट करने में प्रभावी है।

यह भी पढ़ें: सर्वे: तम्बाकू के बढ़ते सेवन से 30 फीसदी लोग हैं कैंसर के मरीज

मरीजों की आँखों में थे ख़ुशी के आंसू:

मेमोरियल स्लोन केटरिंग कैंसर सेंटर और रिसर्च पेपर के सह-लेखक एवं पेशे से ऑन्कोलॉजिस्ट डॉ. एंड्रिया सेर्सेक ने बताया, जब रोगियों को पता चला कि वे कैंसर से मुक्त हो चुके हैं, उस वक्त सभी के चेहरे पर एक अजीब सी खुशी और आंखों में खुशी के आंसू थे।

परीक्षण के दौरान रोगियों ने छह महीने के लिए हर तीन सप्ताह में Dostarlimab लिया था। वे सभी अपने कैंसर के समान चरणों में थे। मेडिसीन क्रिटिक्स और रिसर्चर्स ने बताया कि सभी का इलाज बेहतर तरीके से हुआ है लेकिन अब यह देखना होगा कि बड़े पैमाने पर क्या यह मेडिसीन खरा उतरेगा।

2 thoughts on “इतिहास में ऐसा हुआ पहली बार, इस भयानक बीमारी से अब 6 महीने में मिलेगी राहत!”

  1. Pingback: टीबी के लक्षण, इलाज और घरेलू उपचार ! - Zindagi Plus

  2. Pingback: आज से ही छोड़ देंगे, जानेंगे अगर अखबार में खाना लपेटने से क्या होते हैं नुक्सान! - Zindagi Plus

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

चीनी को कर दें ना, वर्ना हो सकता है बहुत बड़ा नुक्सान ! पूरी बनाने के बाद, अक्सर तेल बच जाता है,ऐसे में महंगा तेल फैंक भी नही सकते और इसका reuse कैसे करें! रक्तदान है ‘महादान’ क्या आपने करवाया, स्वस्थ रहना है तो जरुर करें, इसके अनेकों हैं फायदे! गर्मियों में मिलने वाले drumstick गुणों की खान है, इसकी पत्तियों में भी भरपूर है पोषण! क्या storage full होने के बाद मोबाइल हो रहा है हैंग, तो अपनाएं ये तरीके! खाने में ज्यादा नमक है पसंद, तो हो जाएँ सावधान!इन रोगों को दे रहे निमंत्रण! समय से पहले क्यों लगने लगे बूढ़े, जानिए इसकी वजह!