fbpx
Data Protection, डेटा संरक्षण

भारत ने भी लागु किया नया डेटा संरक्षण कानून(Privacy Policy Law), social media और इंटरनेट पर अपने डिजिटल गोपनीयता अधिकारों के बारे में जानें

“डिजिटल व्यक्तिगत डेटा संरक्षण अधिनियम, 2023”, जो विभिन्न ऑनलाइन मंचों जैसे Google, Facebook, WhatsApp, Instagram, और Twitter के उपयोगकर्ताओं के गोपनीयता और अधिकारों की सुरक्षा का उद्देश्य रखता है। इस अधिनियम की कुछ मुख्य विशेषताएँ और प्रावधानों की व्याख्या इस प्रकार है:

यह अधिनियम व्यक्तिगत डेटा को ऐसी कोई भी जानकारी की परिभाषा देता है जिससे किसी व्यक्ति की पहचान की जा सके, जैसे कि नाम, पता, फ़ोन नंबर, ईमेल, जैवैगिक डेटा आदि। इस अधिनियम में कुछ व्यक्तिगत डेटा को “संवेदनशील” भी वर्गीकृत किया गया है, जैसे कि वित्तीय डेटा, स्वास्थ्य डेटा, धार्मिक आस्थाएँ, लैंगिक दिशा, आदि। संवेदनशील व्यक्तिगत डेटा को उपयोगकर्ताओं से अधिक सहमति और संरक्षण की आवश्यकता होती है।

social media

यह अधिनियम उपयोगकर्ताओं को उनके व्यक्तिगत डेटा को एक मंच से दूसरे मंच में पहुँचाने, सुधारने, मिटाने, और स्थानांतरित करने का अधिकार प्रदान करता है। उपयोगकर्ता अपने व्यक्तिगत डेटा के उपयोग की सहमति को भी किसी समय वापस ले सकते हैं।

यह अधिनियम ऑनलाइन मंचों(गूगल, फेसबुक, इंस्टाग्राम, इत्यादि) को उपयोगकर्ताओं से पहले उनकी व्यक्तिगत डेटा को संग्रहण, प्रसंस्करण, या साझा करने से पहले स्पष्ट और सूचित सहमति प्राप्त करने की आवश्यकता पर जोर देता है। इन मंचों को व्यक्तिगत डेटा का उपयोग कैसे करते हैं और किस उद्देश्य के लिए, इसकी स्पष्ट और पारदर्शी जानकारी भी प्रदान करनी चाहिए।

यह अधिनियम डेटा संरक्षण प्राधिकरण (डीपीए) की स्थापना करता है, जो एक स्वतंत्र नियामक निकाय के रूप में प्रकट होता है, जिसका कार्य ऑनलाइन मंचों के साथ इस अधिनियम की आवश्यकताओं का आचरण सुनिश्चित करना और नियमन करना होता है। डीपीए(DPA) को दिशानिर्देश जारी करने, मंचों की मुआवज़ा करने, जुर्माने लगाने, और व्यक्तिगत डेटा संरक्षण से संबंधित विवादों का न्यायपालन करने की शक्ति प्राप्त होती है।

भारत ने भी लागु किया नया डेटा संरक्षण कानून(Privacy Policy Law), social media और इंटरनेट पर अपने डिजिटल गोपनीयता अधिकारों के बारे में जानें 1

यह अधिनियम ऑनलाइन मंचों पर कुछ दायित्व भी थोपता है, जैसे:

  • व्यक्तिगत डेटा की अनधिकृत पहुँच, हानि, या क्षति को रोकने के लिए उपयुक्त सुरक्षा उपायों को लागू करना।
  • व्यक्तिगत डेटा के किसी भी उल्लंघन या संकट के मामले में 72 घंटे के भीतर डीपीए और उपयोगकर्ताओं को सूचित करना।
  • एक डेटा संरक्षण अधिकारी (डीपीओ) की नियुक्ति करना, जिसका कार्य इस अधिनियम की आवश्यकताओं का आचरण सुनिश्चित करना और डीपीए और उपयोगकर्ताओं के साथ संबंध सामंजस्यपूर्ण करना होता है।
  • किसी नए या महत्वपूर्ण गतिविधि की शुरुआत से पहले डेटा संरक्षण प्रभाव मूल्यांकन (डीपीआईए) आयोजित करना, जिसमें व्यक्तिगत डेटा से जुड़ी किसी भी नई या महत्वपूर्ण गतिविधि का मूल्यांकन किया जाता है।

नया अधिनियम एक महत्वपूर्ण विधान है जो उपयोगकर्ताओं को सशक्त बनाने वाला है और वृद्धि करती ऑनलाइन गतिविधियों और डेटा द्वारा परिचालित व्यापारों के युग में उनके डिजिटल अधिकारों की रक्षा करेगा ।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

नए पेरेंट्स नवजात शिशु की देखभाल ऐसे करें ! बढ़ती उम्र का करना पड़ रहा सामना! यह पानी, करेगा फेस टोनर का काम। भारत के वृहत हिमालय में 10 अवश्य देखने योग्य झीलें घर बैठे पैसे कमाने के तरीके सपने में दिखने वाली कुछ ऐसी चीजे, जो बदल दे आपका भाग्य ! home gardening tips Non-Stick और Ceramics Cookware के छिपे खतरे