fbpx
TB

टीबी के लक्षण, इलाज और घरेलू उपचार !

टीबी क्या है ?

टीबी एक ऐसी बीमारी है जो व्यक्ति के फेफड़ों और श्वसन तंत्र को प्रभावित करती है। यह रोग माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरक्लोसिस नामक जीवाणु से होता है। यह बिमारी प्रभावित व्यक्ति के खांसी, छींक, लार आदि के माध्यम से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है।

टीबी के जीवाणु फेफड़ों के साथ-साथ रीढ़, मस्तिष्क और किडनी पर भी हमला करते हैं। यदि आपमें वजन घटना, बुखार, रात को पसीना, ग्रंथियों में सूजन आदि जैसे रोग के लक्षण हैं, तो डॉक्टर को जरुर दिखाएँ।

TB symptoms

ट्यूबरक्लोसिस के जीवाणु कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों में सक्रिय हो जाते हैं और ट्यूबरक्लोसिस रोग का कारण बनते हैं।

टीबी के लक्षण:

टीबी हमारे शरीर के कई अंगों को नुकसान पहुंचा सकती है। इसके लक्षण बुखार, वजन घटना, पेशाब में खून आना, भूख कम लगना और पेशाब में जलन हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें: इतिहास में ऐसा हुआ पहली बार, इस भयानक बीमारी से अब 6 महीने में मिलेगी राहत!

टीबी कितने प्रकार की होती है:

प्लमोनरी टीबी: – यह टीबी का प्राइमरी रूप होता है, जो लंग को प्रभावित करता है। यह बहुत ही कम उम्र वाले बच्चों में या फिर अधिक उम्र वाले वृद्ध लोगों में होता है।

एक्ट्रापल्मोनरी टीबी: – इस प्रकार में टीबी हड्डियां, किडनी और लिम्फ नोड आदि में होता है।

घरों में ऐसे करें रोकथाम:

अगर आपको टीबी की शिकायत है, तो जब आप खांसते या छींकते हैं, तो आपको अपने चेहरे को रुमाल से ढंकना चाहिए। आपको अपना इस्तेमाल किया हुआ रुमाल धो कर उपयोग में लाना चाहिए।

tb patient

यदि आपके पास रुमाल या टिश्यू नही है तो अपनी ऊपरी बांह या कोहनी में खांसना या छींकना चाहिए। आपको अपने हाथों पर खासना नहीं चाहिए। खांसने के बाद आपको अपने हाथ धोने चाहिए।

यह भी पढ़ें: अगर आपको भी रहती है शुगर और कब्ज की समस्या, तो खाएँ ये मजेदार देसी सब्जी

स्मीयर पॉज़िटिव होने पर, ये सब करें:

घरों को पर्याप्त रूप से हवादार होना चाहिए। जितना हो सके बाहर समय बिताएं। यदि संभव हो तो, पर्याप्त हवादार कमरे में अकेले सोएं। जितना हो सके पब्लिक ट्रांसपोर्ट पर कम से कम समय बिताएं। जितना हो सके कम से कम समय उन जगहों पर बिताएं जहां बड़ी संख्या में लोग इकट्ठा होते हैं।

खाने में क्या खाएं :

टीबी के संक्रमित व्यक्ति को फलों में अमरूद, सेब, संतरा, नींबू, आंवला, आम जैसे फल खाने चाहिए. इन फलों में विटामिन A, E और विटामिन C की अच्छी मात्र होती है।

हरे-पत्तेदार सब्जियां सेवन करना बेस्ट ऑप्शन है। इसके लिए डाइट में साग, पालक, करेला, लहसुन, खीरा, मटर, पालक, घि‍या, टमाटर, आलू, फूल गोभी आदि शामिल करें। इसे सब्जी, सलाद व सूप के तौर पर सेवन किया जा सकता है। इससे इम्यूनिटी स्ट्रांग होने से इस गंभीर रोग से लड़ने की शक्ति मिलेगी।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

नए साल 2024 में, जाग उठेगा सोया हुआ भाग्य, राशिनुसार करें ये उपाय! “बॉलीवुड के गहरे राज़: माफिया से रहस्यमय मोहब्बत में पड़ बर्बाद हुई टॉप बॉलीवुड एक्ट्रेस, कुछ नाम आपको चौंका देंगे!” सर्दियों में खाने के लिए 10 ऐसे पत्तों की औषधि, जो आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद हैं। इन सर्दियों में ऐसे रहें फिट, खाएं ये पौष्टिक आहार ! कर्ज से चाहिए छुटकारा, शुक्रवार के दिन कर लें काम! इन तरीकों से खुद को रखें तंदरुस्त I वास्तु शास्त्र के अनुसार करें इन गलतियों को सही, घर में होगा माँ लक्ष्मी का प्रवेशI