fbpx
मेजर ध्यानचंद

तानाशाह हिटलर भी मुरीद था हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद के खेल का

किसी भी खिलाड़ी की महानता को मापने का सबसे बड़ा पैमाना है कि उसके साथ कितनी किवदंतियां जुड़ी हुई हैं। मेजर ध्यानचंद हॉकी जगत का एक ऐसा नाम है जो हॉकी, विशेषकर भारतीय हॉकी को विश्वव्यापी तौर पर एक अलग ही स्तर पर ले गए।

हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद को फुटबॉल में पेले, क्रिकेट में ब्रैडमैन और बॉक्सिंग में मोहम्मद अली के बराबर का दर्जा दिया गया है।

newstracklive

भारतीय सेना ko का यह मेजर जब हॉकी के मैदान में उतरा, तो हर कोई इसकी शख्सियत का कायल बन गया। खुद जिसके नाम से दुनियाभर की रियासतें कांप उठती थीं, वह हिटलर भी ध्यानचंद के खेल का मुरीद था।

googleusercontent

1936 के ओलंपिक की बात है। उस वक़्त ओलंपिक जर्मन तानाशाह एडॉल्फ हिटलर के शहर बर्लिन में आयोजित हुए थे। भारतीय टीम का  तानाशाह की टीम जर्मनी से फाइनल मैच 15 अगस्त को था। बर्लिन के हॉकी स्टेडियम में उस दिन 40,000 लोग फ़ाइनल देखने आए थे। जर्मनी की टीम को उसके घर में हराना आसान नहीं था।

 

एक वक़्त ऐसा था, जब हाफ़ टाइम तक भारत मात्र एक गोल से आगे था। भारतीय टीम ने जो प्रदर्शन किया, उसमें ध्यानचंद का रोल महत्वपूर्ण रहा। ध्यानचंद ने अपने जूते और मोज़े उतारे और नंगे पांव खेलने लगे। इसके बाद जो हुआ वह इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गया।

मेजर ध्यानचंद

ध्यानचंद के तीन महत्वपूर्ण गोल के साथ भारत जर्मनी को इस फाइनल मुकाबले में 8-1 से करारी शिकस्त देने में कामयाब रहा।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

नए साल 2024 में, जाग उठेगा सोया हुआ भाग्य, राशिनुसार करें ये उपाय! “बॉलीवुड के गहरे राज़: माफिया से रहस्यमय मोहब्बत में पड़ बर्बाद हुई टॉप बॉलीवुड एक्ट्रेस, कुछ नाम आपको चौंका देंगे!” सर्दियों में खाने के लिए 10 ऐसे पत्तों की औषधि, जो आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद हैं। इन सर्दियों में ऐसे रहें फिट, खाएं ये पौष्टिक आहार ! कर्ज से चाहिए छुटकारा, शुक्रवार के दिन कर लें काम! इन तरीकों से खुद को रखें तंदरुस्त I वास्तु शास्त्र के अनुसार करें इन गलतियों को सही, घर में होगा माँ लक्ष्मी का प्रवेशI