fbpx
ऋषिकेश देहरादून के पास हिल स्टेशन, बरकोट, भारत में गर्मियों में घूमने की जगह

ऋषिकेश-देहरादून के पास हिल स्टेशन : 20 ऐसे स्थान जो प्रसिद्ध नहीं हैं लेकिन घूमने के लिए बेहद खूबसूरत हैं

ऋषिकेश-देहरादून के पास हिल स्टेशन कुछ ऐसे हैं जो शायद ही आपने सुने होंगे या घूमे होंगे। ये स्थान प्रकृति की गोद में स्थित हैं और आपको एक अलग ही सुकून और मस्ती का अहसास कराते हैं। इन स्थानों पर पहुंचना भी कोई मुश्किल काम नहीं है, सिर्फ कुछ घंटों के सफ़र के बाद आपको मिलता है पहाड़ों का मनमोहक नजारा। भारत में गर्मियों में घूमने की जगह

तो, अगर आपको पहाड़ों का मन है, तो हमारी सलाह है कि आपको कम से कम एक बार इन 20 स्थानों पर ज़रूर जाना चाहिए !

1. कनाताल (ऋषिकेश से 79 किमी)

कनाताल ऋषिकेश के पास एक छोटा सा गाँव है जो ध्यान और विश्राम के लिए एक शांत और शांतिपूर्ण वातावरण प्रदान करता है। यह हरे-भरे जंगलों और बर्फ से ढके पहाड़ों से घिरा हुआ है। आप यहां लंबी पैदल यात्रा, कैंपिंग, पैराग्लाइडिंग, वैली क्रॉसिंग आदि जैसी विभिन्न साहसिक गतिविधियों का आनंद ले सकते हैं। आप सुरकंडा देवी मंदिर भी जा सकते हैं, जो एक प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है।

कैसे पहुंचा जाये: आप ऋषिकेश से कानाताल के लिए बस या टैक्सी ले सकते हैं। पहुंचने में करीब 2 घंटे लगेंगे।

अनुमानित लागत: कनाटल की एक बजट यात्रा में लगभग रु। खर्च हो सकते हैं। आवास, भोजन और परिवहन सहित दो दिनों के लिए प्रति व्यक्ति 3000।

कनाताल, Kanatal
कनाताल – Kanatal Pic by canva.com

2. डोडी ताल (ऋषिकेश से 200 किमी)

डोडी ताल समुद्र तल से 3024 मीटर की ऊंचाई पर स्थित एक प्राचीन झील है। ऐसा माना जाता है कि यह भगवान गणेश का जन्मस्थान है और इसके तट पर उनका एक मंदिर है। झील घने जंगलों से घिरी हुई है और हिमालय के मनोरम दृश्य प्रस्तुत करती है। आप संगम चट्टी या अगोड़ा गांव से झील तक ट्रेकिंग कर सकते हैं और यहां कैम्पिंग और मछली पकड़ने का आनंद ले सकते हैं।

कैसे पहुंचा जाये: आप ऋषिकेश से उत्तरकाशी के लिए बस या टैक्सी ले सकते हैं और फिर दूसरी बस या टैक्सी से संगम चट्टी या अगोड़ा गाँव जा सकते हैं। वहां से आप डोडी ताल तक लगभग 16 किमी की ट्रेकिंग कर सकते हैं।

अनुमानित लागत: डोडी ताल की एक बजट यात्रा में लगभग रु। खर्च हो सकते हैं। आवास, भोजन, परिवहन और ट्रेकिंग सहित तीन दिनों के लिए प्रति व्यक्ति 5000।

लंढौर, landour
लंढौर – Pic by Canva.com

3. लंढौर (देहरादून से 35 किमी)

लंढौर देहरादून के पास एक विचित्र हिल स्टेशन है जो कभी ब्रिटिश छावनी हुआ करता था। यह अपने औपनिवेशिक आकर्षण, प्राकृतिक सुंदरता और साहित्यिक विरासत के लिए प्रसिद्ध है। आप लंढौर बाजार जा सकते हैं, जो स्थानीय हस्तशिल्प, जैम, पनीर और शहद बेचता है। आप लाल टिब्बा भी जा सकते हैं, जो लंढौर का सबसे ऊंचा स्थान है और हिमालय का अद्भुत दृश्य प्रस्तुत करता है। आप यहां रहने वाले मशहूर लेखक रस्किन बॉन्ड से भी मिल सकते हैं।

कैसे पहुंचा जाये: आप देहरादून से मसूरी के लिए बस या टैक्सी ले सकते हैं और फिर लंढौर के लिए दूसरी बस या टैक्सी ले सकते हैं। पहुंचने में करीब एक घंटा लगेगा।

अनुमानित लागत: लंढौर की एक बजट यात्रा में लगभग रु। खर्च हो सकते हैं। आवास, भोजन और परिवहन सहित दो दिनों के लिए प्रति व्यक्ति 4000।

Landour Mountains

4.खिरसू (ऋषिकेश से 160 किमी)

खिरसू ऋषिकेश के पास एक छिपा हुआ रत्न है जो भीड़ और शोर से शांत और ताज़ा पलायन प्रदान करता है। यह समुद्र तल से 1700 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है और साल भर यहां का मौसम सुखद रहता है। आप यहां से नंदादेवी, त्रिशूल, चौखंबा और पंचाचूली की बर्फ से ढकी चोटियों के विहंगम दृश्य का आनंद ले सकते हैं। आप प्राचीन घंडियाल देवता मंदिर भी जा सकते हैं, जो भगवान विष्णु को समर्पित है।

कैसे पहुंचा जाये: आप ऋषिकेश से पौड़ी के लिए बस या टैक्सी ले सकते हैं और फिर खिरसू के लिए दूसरी बस या टैक्सी ले सकते हैं। पहुंचने में करीब 5 घंटे लगेंगे।

अनुमानित लागत: खिर्सू की एक बजट यात्रा में लगभग रु। खर्च हो सकते हैं। आवास, भोजन और परिवहन सहित दो दिनों के लिए प्रति व्यक्ति 3000।

Mandal
मंडल – Pic by canva.com

5. मंडल (ऋषिकेश से 200 किमी)

मंडल ऋषिकेश के पास एक सुरम्य गांव है जो अपनी प्राकृतिक सुंदरता और समृद्ध संस्कृति के लिए जाना जाता है। यह मंदाकिनी नदी के तट पर स्थित है और इसमें कई मंदिर और मंदिर हैं। आप अनुसूया देवी मंदिर जा सकते हैं, जो उत्तराखंड के सबसे प्रतिष्ठित मंदिरों में से एक है। आप यहां से चोपता, तुंगनाथ और चंद्रशिला की यात्रा भी कर सकते हैं और हिमालय के शानदार नजारे देख सकते हैं।

कैसे पहुंचा जाये: आप ऋषिकेश से रुद्रप्रयाग के लिए बस या टैक्सी ले सकते हैं और फिर मंडल के लिए दूसरी बस या टैक्सी ले सकते हैं। पहुंचने में करीब 6 घंटे लगेंगे।

अनुमानित लागत: मंडल की एक बजट यात्रा में लगभग रु। खर्च हो सकते हैं। आवास, भोजन, परिवहन और ट्रेकिंग सहित तीन दिनों के लिए प्रति व्यक्ति 4000।

Chopta, चोपटा
चोपटा – Pic by Canva.com

6. चोपटा (ऋषिकेश से 210 किमी)

चोपटा ऋषिकेश के पास एक लोकप्रिय हिल स्टेशन है जिसे उत्तराखंड के मिनी स्विट्जरलैंड के रूप में भी जाना जाता है। यह समुद्र तल से 2680 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है और इसमें समृद्ध जैव विविधता है। आप तुंगनाथ तक ट्रेक कर सकते हैं, जो दुनिया का सबसे ऊंचा शिव मंदिर है, और चंद्रशिला, जो चोपता का सबसे ऊंचा स्थान है। आप यहां कैंपिंग, बर्डवॉचिंग और स्टारगेजिंग का भी लुत्फ उठा सकते हैं।

कैसे पहुंचा जाये: आप ऋषिकेश से ऊखीमठ के लिए बस या टैक्सी ले सकते हैं और फिर चोपता के लिए दूसरी बस या टैक्सी ले सकते हैं। पहुंचने में करीब 7 घंटे लगेंगे।

अनुमानित लागत: चोपता की एक बजट यात्रा में लगभग रु। खर्च हो सकते हैं। आवास, भोजन, परिवहन और ट्रेकिंग सहित तीन दिनों के लिए प्रति व्यक्ति 5000।

हरसिल, harsil
हरसिल – pics by canva.com

7. हरसिल (ऋषिकेश से 230 किमी)

हर्षिल ऋषिकेश के पास एक आकर्षक हिल स्टेशन है जो भागीरथी नदी के तट पर स्थित है। यह अपने सेब के बागों, देवदार के जंगलों और बर्फ से ढके पहाड़ों के लिए प्रसिद्ध है!

आप विल्सन कॉटेज की यात्रा कर सकते हैं, जिसे 1864 में एक ब्रिटिश इंजीनियर द्वारा बनाया गया था। आप गंगोत्री मंदिर भी जा सकते हैं, जो चार धाम यात्रा के चार पवित्र स्थलों में से एक है। आप यहां राफ्टिंग, फिशिंग और ट्रेकिंग का भी लुत्फ उठा सकते हैं।

कैसे पहुंचा जाये: आप ऋषिकेश से उत्तरकाशी के लिए बस या टैक्सी ले सकते हैं और फिर हरसिल के लिए दूसरी बस या टैक्सी ले सकते हैं। पहुंचने में करीब 8 घंटे लगेंगे।

अनुमानित लागत: हर्षिल की एक बजट यात्रा में लगभग रु। खर्च हो सकते हैं। आवास, भोजन, परिवहन और गतिविधियों सहित तीन दिनों के लिए प्रति व्यक्ति 6000।

ऋषिकेश-देहरादून के पास हिल स्टेशन : 20 ऐसे स्थान जो प्रसिद्ध नहीं हैं लेकिन घूमने के लिए बेहद खूबसूरत हैं 1

8.पंगोट (ऋषिकेश से 310 किमी)

पंगोट एक पक्षी प्रेमियों का स्वर्ग है जो ऋषिकेश के पास स्थित है और पक्षियों की 250 से अधिक प्रजातियों का घर है। यह समुद्र तल से 2000 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है और साल भर सुखद मौसम का आनंद उठाता है। आप यहां किसी इको फ्रेंडली रिजॉर्ट या जंगल के बीच कैंप में रुक सकते हैं।

कैसे पहुंचा जाये: आप देहरादून से बस या टैक्सी द्वारा नैनीताल पहुँच सकते हैं और फिर नैनीताल से पंगोट के लिए बस या टैक्सी ले सकते हैं। पहुंचने में करीब 7-8 घंटे लगेंगे।

अनुमानित लागत: 2-3 दिनों के लिए पंगोट की एक सस्ती यात्रा लगभग 5000-6000 रुपये प्रति व्यक्ति हो सकती है, जिसमें आवास, भोजन, परिवहन, बर्ड-वाचिंग, स्टार-गेज़िंग, कैंपिंग, हाइकिंग आदि शामिल हैं।

9. चकोरी (चौकोरी  गांव ऋषिकेश से ४०० कि मी)

चौकोरी एक पहाड़ी स्थान है जो ऋषिकेश के पास स्थित है और पश्चिमी हिमालय के ऊंचे शिखरों के बीच में बसा हुआ है। इसके उत्तर में तिब्बत और दक्षिण में तराई है। इसकी पूर्वी सीमा पर महाकाली नदी बहती है, जो भारत-नेपाल की अंतर्राष्ट्रीय सीमा का रूप है। यहां से पंचचुली, नंदा कोट, नंदा देवी, आदि हिमालयी पर्वतों का मनमोहक दृश्य देखा जा सकता है। चौकोरी की ऊंचाई 2010 मीटर है और पूरे साल में सुहावना मौसम रहता है।

कैसे पहुंचें: आप ऋषिकेश से बस या टैक्सी से पिथौरागढ़ पहुंच सकते हैं और फिर पिथौरागढ़ से चौकोरी के लिए बस या टैक्सी ले सकते हैं। पहुंचने में करीब 13-14 घंटे का समय लगेगा।

लगभग खर्च: चौकोरी का एक सस्ता सफर 3-4 दिनों के लिए प्रति व्यक्ति 8000-9000 रुपये का हो सकता है, जिसमें आवास, भोजन, परिवहन, साइट-सींग, सम्मिलित होते हैं।

10.भोवाली (ऋषिकेश से 320 किमी)

भोवाली ऋषिकेश के पास एक छोटा सा शहर है जो अपने फलों के बागों और प्राकृतिक दृश्यों के लिए जाना जाता है। यह समुद्र तल से 1706 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है और इसकी जलवायु ठंडी और सुखद है। आप गोलू देवता मंदिर जा सकते हैं, जो एक स्थानीय देवता को समर्पित एक लोकप्रिय मंदिर है। आप सैनिक स्कूल भी जा सकते हैं, जो लड़कों के लिए एक प्रतिष्ठित संस्थान है। आप पास की भीमताल झील में नौका विहार और मछली पकड़ने का भी आनंद ले सकते हैं।

कैसे पहुंचा जाये: आप देहरादून से नैनीताल के लिए बस या टैक्सी ले सकते हैं और फिर भोवाली के लिए दूसरी बस या टैक्सी ले सकते हैं। पहुंचने में करीब 8-9 घंटे लगेंगे।

अनुमानित लागत: भोवाली की एक बजट यात्रा में लगभग रु। खर्च हो सकते हैं। आवास, भोजन और परिवहन सहित दो दिनों के लिए प्रति व्यक्ति 4000।

Khurpatal
खुरपाताल – Pics by Canva.com

11.खुर्पाताल (ऋषिकेश से 325 किमी)

खुर्पाताल ऋषिकेश के पास एक खूबसूरत झील है जो चीड़ और देवदार के पेड़ों से घिरी हुई है। यह समुद्र तल से 1635 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है और यहां शांत और निर्मल वातावरण है। आप झील के पास कॉटेज या रिसॉर्ट में रुक सकते हैं और प्राकृतिक सुंदरता का आनंद ले सकते हैं। आप नैना देवी मंदिर भी जा सकते हैं, जो भारत के 51 शक्तिपीठों में से एक है।

कैसे पहुंचा जाये: आप देहरादून से नैनीताल के लिए बस या टैक्सी ले सकते हैं और फिर खुर्पाताल के लिए दूसरी बस या टैक्सी ले सकते हैं। पहुंचने में करीब 9 घंटे लगेंगे।

अनुमानित लागत: खुर्पाताल की एक बजट यात्रा में लगभग रु। खर्च हो सकते हैं। आवास, भोजन और परिवहन सहित दो दिनों के लिए प्रति व्यक्ति 5000।

ऋषिकेश-देहरादून के पास हिल स्टेशन : 20 ऐसे स्थान जो प्रसिद्ध नहीं हैं लेकिन घूमने के लिए बेहद खूबसूरत हैं 2
भीमताल – pic by canva.com

12.भीमताल (ऋषिकेश से 330 किमी)

भीमताल ऋषिकेश के पास एक लोकप्रिय हिल स्टेशन है जिसका नाम महाभारत के महान नायक भीम के नाम पर रखा गया है। यह अपनी झील के लिए प्रसिद्ध है, जो इस क्षेत्र में सबसे बड़ी है और बीच में एक द्वीप है। झील पर आप बोटिंग, कयाकिंग, ज़ोरबिंग और पैराग्लाइडिंग का मज़ा ले सकते हैं। आप भीमेश्वर मंदिर भी जा सकते हैं, जो भगवान शिव को समर्पित है और इसकी वास्तुकला 17वीं शताब्दी की है।

कैसे पहुंचा जाये: आप देहरादून से नैनीताल के लिए बस या टैक्सी ले सकते हैं और फिर भीमताल के लिए दूसरी बस या टैक्सी ले सकते हैं। पहुंचने में करीब 9-10 घंटे लगेंगे।

अनुमानित लागत: भीमताल की एक बजट यात्रा में लगभग रु। खर्च हो सकते हैं। आवास, भोजन, परिवहन और गतिविधियों सहित तीन दिनों के लिए प्रति व्यक्ति 6000।

dharchula,
धारचूला – Pic by Canva

13.धारचूला (ऋषिकेश से 340 किमी)

धारचूला ऋषिकेश के पास एक सीमावर्ती शहर है जो काली नदी के तट पर स्थित है। यह हिमालय में कई ट्रेकिंग मार्गों और तीर्थ स्थलों का प्रवेश द्वार है। आप नारायण आश्रम जा सकते हैं, जो एक आध्यात्मिक आश्रय स्थल और एक सामाजिक सेवा केंद्र है। आप चिरकिला बांध भी जा सकते हैं, जो एक पनबिजली परियोजना है और नदी और पहाड़ों के सुंदर दृश्य प्रस्तुत करता है।

कैसे पहुंचा जाये: आप ऋषिकेश से पिथौरागढ़ के लिए बस या टैक्सी ले सकते हैं और फिर धारचूला के लिए दूसरी बस या टैक्सी ले सकते हैं। पहुंचने में करीब 11-12 घंटे लगेंगे।

अनुमानित लागत: धारचूला की एक बजट यात्रा में लगभग रु। खर्च हो सकते हैं। आवास, भोजन, परिवहन और दर्शनीय स्थलों की यात्रा सहित तीन दिनों के लिए प्रति व्यक्ति 7000।

14. ज्योलिकोट (ऋषिकेश से 350 किमी)

ज्योलिकोट ऋषिकेश के पास एक आकर्षक हिल स्टेशन है जो अपनी तितली आबादी और जैविक खेती के लिए जाना जाता है। यह समुद्र तल से 1219 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है और साल भर हल्की जलवायु रहती है। आप किसी हेरिटेज होटल या होमस्टे में रुक सकते हैं और स्थानीय संस्कृति और व्यंजनों का आनंद ले सकते हैं। आप घोड़ाखाल मंदिर भी जा सकते हैं, जो न्याय के स्थानीय देवता भगवान गोलू को समर्पित है।

कैसे पहुंचा जाये: आप देहरादून से नैनीताल के लिए बस या टैक्सी ले सकते हैं और फिर ज्योलिकोट के लिए दूसरी बस या टैक्सी ले सकते हैं। पहुंचने में करीब 10-11 घंटे लगेंगे।

अनुमानित लागत: ज्योलिकोट की एक बजट यात्रा में लगभग रु। खर्च हो सकते हैं। आवास, भोजन और परिवहन सहित दो दिनों के लिए प्रति व्यक्ति 5000।

15. ग्वालदम (ऋषिकेश से 360 किमी)

ग्वालदम ऋषिकेश के पास एक छिपा हुआ रत्न है जो हिमालय की चोटियों जैसे नंदा देवी, त्रिशूल और नंदा घुंटी का मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है। यह समुद्र तल से 1700 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है और साल भर यहां का मौसम सुखद रहता है। आप बदनगढ़ी मंदिर तक ट्रेक कर सकते हैं, जो एक पहाड़ी की चोटी पर एक प्राचीन किला और मंदिर परिसर है। आप बैजनाथ मंदिर भी जा सकते हैं, जो भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है।

कैसे पहुंचा जाये: आप ऋषिकेश से कर्णप्रयाग के लिए बस या टैक्सी ले सकते हैं और फिर ग्वालदम के लिए दूसरी बस या टैक्सी ले सकते हैं। पहुंचने में करीब 12-13 घंटे लगेंगे।

अनुमानित लागत: ग्वालदम की एक बजट यात्रा में लगभग रु। खर्च हो सकते हैं। आवास, भोजन, परिवहन और ट्रेकिंग सहित तीन दिनों के लिए प्रति व्यक्ति 6000।

16. हल्द्वानी (ऋषिकेश से 370 किमी)

हल्द्वानी ऋषिकेश के पास एक हलचल भरा शहर है जिसे कुमाऊँ के प्रवेश द्वार के रूप में भी जाना जाता है। यह अपने फलों के बाजारों के लिए प्रसिद्ध है, जो सेब, आड़ू, आलूबुखारा, खुबानी आदि जैसे ताजे और रसीले फल बेचते हैं। आप गौला बैराज की यात्रा कर सकते हैं, जो गौला नदी पर एक बांध है और पानी और पानी का सुंदर दृश्य प्रस्तुत करता है। पहाड़ियों। आप संजय वन भी जा सकते हैं, जो एक वन उद्यान और एक पिकनिक स्थल है।

कैसे पहुंचा जाये: आप देहरादून से हल्द्वानी के लिए बस या ट्रेन ले सकते हैं। बस से 9-10 घंटे और ट्रेन से 7-8 घंटे लगेंगे।

अनुमानित लागत: हल्द्वानी की एक बजट यात्रा में लगभग रु। खर्च हो सकते हैं। आवास, भोजन और परिवहन सहित दो दिनों के लिए प्रति व्यक्ति 4000।

Munsiyari
मुंसियारी

17. मुनस्यारी (ऋषिकेश से 400 किमी)

मुनस्यारी ऋषिकेश के पास स्थित एक खूबसूरत हिल स्टेशन है और पंचचूली रेंज की हिमालय की चोटियों का मनमोहक दृश्य प्रस्तुत करता है। यह 2298 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है और साल भर ठंडा मौसम अनुभव करता है। आप यहां कई ट्रेकिंग रूट्स का लुत्फ उठा सकते हैं, जैसे मिलम, रालम, नामिक, खलिया आदि। आप यहां इको-फ्रेंडली होटलों में ठहर सकते हैं और प्राकृतिक सुंदरता का लुत्फ उठा सकते हैं।

कैसे पहुंचा जाये: आप ऋषिकेश से बस या टैक्सी द्वारा पिथौरागढ़ पहुँच सकते हैं और फिर पिथौरागढ़ से मुनस्यारी के लिए बस या टैक्सी ले सकते हैं। पहुंचने में करीब 13-14 घंटे लगेंगे।

अनुमानित लागत: मुनस्यारी की एक सस्ती यात्रा 3-4 दिनों के लिए लगभग 8000-9000 रुपये प्रति व्यक्ति हो सकती है, जिसमें आवास, भोजन, परिवहन, साइट-देखना, ट्रेकिंग शामिल है।

१८.चकराता (देहरादून से 90 किमी)

चकराता देहरादून के पास एक एकांत हिल स्टेशन है जो अपने जंगलों और झरनों के लिए जाना जाता है। यह समुद्र तल से 2118 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है और यहां पूरे साल ठंडी और सुखद जलवायु रहती है। आप टाइगर फॉल्स की यात्रा कर सकते हैं, जो भारत के सबसे ऊंचे झरनों में से एक है और 312 फीट की ऊंचाई से नीचे गिरते पानी का शानदार दृश्य प्रस्तुत करता है। आप बुधेर गुफाओं की भी यात्रा कर सकते हैं, जो प्राचीन चूना पत्थर की गुफाएँ हैं जिनमें स्टैलेक्टाइट्स और स्टैलेग्माइट्स हैं।

कैसे पहुंचा जाये: आप देहरादून से चकराता के लिए बस या टैक्सी ले सकते हैं। पहुंचने में करीब 3 घंटे लगेंगे।

अनुमानित लागत: चकराता की एक बजट यात्रा में लगभग रु। खर्च हो सकते हैं। आवास, भोजन और परिवहन सहित दो दिनों के लिए प्रति व्यक्ति 4000।

Barkot,
बरकोट – Pic by canva

१९. बरकोट (देहरादून से 130 किमी)

बरकोट देहरादून के पास एक सुंदर शहर है जो यमुना नदी के तट पर स्थित है। यह अपने सेब के बागों, प्राकृतिक झरनों और हिमालय के नजारों के लिए प्रसिद्ध है। आप यमुनोत्री मंदिर जा सकते हैं, जो चार धाम यात्रा के चार पवित्र स्थलों में से एक है और यमुना नदी का स्रोत है। आप सूर्य कुंड भी जा सकते हैं, जो मंदिर के पास एक गर्म पानी का झरना है।

कैसे पहुंचा जाये: आप देहरादून से बड़कोट के लिए बस या टैक्सी ले सकते हैं। पहुंचने में करीब 4 घंटे लगेंगे।

अनुमानित लागत: बड़कोट की एक बजट यात्रा में लगभग रु। खर्च हो सकते हैं। आवास, भोजन, परिवहन और तीर्थ यात्रा सहित तीन दिनों के लिए प्रति व्यक्ति 5000।

Himalayan Hill Station
लैंसडौन की शाम – Canva

२०.लैंसडाउन (देहरादून से 160 किमी)

लैंसडाउन देहरादून के पास एक आकर्षक हिल स्टेशन है जो कभी ब्रिटिश छावनी हुआ करता था। यह अपनी औपनिवेशिक वास्तुकला, देवदार के जंगलों और शांत वातावरण के लिए प्रसिद्ध है। आप गढ़वाली संग्रहालय जा सकते हैं, जो गढ़वाल क्षेत्र के इतिहास और संस्कृति को प्रदर्शित करता है। आप टिप एन टॉप पर भी जा सकते हैं, जो एक ऐसा व्यूपॉइंट है जो हिमालय का शानदार दृश्य प्रस्तुत करता है। आप यहां कैंपिंग, बोटिंग और बर्डवॉचिंग का भी लुत्फ उठा सकते हैं।

कैसे पहुंचा जाये: आप देहरादून से लैंसडाउन के लिए बस या टैक्सी ले सकते हैं। पहुंचने में करीब 5 घंटे लगेंगे।

अनुमानित लागत: लैंसडाउन की एक बजट यात्रा का खर्च लगभग रु। आवास, भोजन और परिवहन सहित दो दिनों के लिए प्रति व्यक्ति 4000।

ये थी ऋषिकेश-देहरादून के पास 20 ऐसी जगहें जो मशहूर नहीं हैं लेकिन घूमने में बेहद खूबसूरत हैं। इसलिए, अगर पहाड़ आपकी चीज हैं, तो इन जगहों को अपनी बकेट-लिस्ट में शामिल करें और एक यादगार यात्रा का आनंद लें।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

नए पेरेंट्स नवजात शिशु की देखभाल ऐसे करें ! बढ़ती उम्र का करना पड़ रहा सामना! यह पानी, करेगा फेस टोनर का काम। भारत के वृहत हिमालय में 10 अवश्य देखने योग्य झीलें घर बैठे पैसे कमाने के तरीके सपने में दिखने वाली कुछ ऐसी चीजे, जो बदल दे आपका भाग्य ! home gardening tips Non-Stick और Ceramics Cookware के छिपे खतरे