तलवों में दर्द के कारण :

रोजाना की भागम-भाग, ऑफिस का तनाव और ट्रैफिक जाम की थकावट का सबसे ज्यादा असर पैरों पर पड़ता है, खासकर तलवों पर। ऐसे में पैरों के तलवों के दर्द के कारण कई बार पैर सूज जाते हैं और चलना मुश्किल हो जाता  हैं।

foot-tendonitis

लेकिन ऑफिस और ऑफिस का काम किसी के लिए नहीं रुकता। ऐसे में रोज-रोज डॉक्टर के पास भी नहीं जा सकते। इसे दूर करने के लिए आसान घरेलू उपाय अपनाएं और पैरों को बॉटल मसाज देकर दर्द दूर करें। पैरों के तलवों में दर्द, जलन व सूजन के लिए बॉटल मसाज काफी कारगर है।

ये भी पढ़ें : सर्दियों में पैरों की त्‍वचा को कैसे बनाए खुबसूरत, अपनाएँ ये खास उपाय !

तलवों में दर्द को दूर करने के उपाय :

तलवों में दर्द या सूजन की समस्या से परेशान लोगों के लिए बॉटल मसाज थैरेपी काफी उपयोगी होती है। इसके लिए आपको प्लास्टिक की बोतल में 1/3 पानी भर कर फ्रीजर में जमने के लिए रखना होगा। बोतल में जब बर्फ जम जाए तो उसे बाहर निकालें और आसपास का पानी पोंछ दें। फिर बोतल को एक सूखे टॉवल, कपड़े या डोरमैट पर रख दें।

अब कुर्सी या सोफे पर बैठ जाएं और पैरों के तलवे के बीच वाले हिस्से को बोतल पर रखें व बोतल को तलवों की सहायता से आगे-पीछे करें। इससे आपके तलवों में रक्त संचार होगा और मांसपेशियों की हल्की मसाज होगी। इस प्रयोग को 10-15 मिनट तक कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें : कैसे बनाएँ पैरों को साफ और मुलायम घरेलू नुसख़ों से

सावधानियां

अगर पैरों में स्किन एलर्जी, इन्फेक्शन या घाव हो तो इस मसाज का उपयोग न करें।

इस मसाज के लिए पानी की हमेशा साफ-सुथरी बॉटल ही प्रयोग कीजिए।

कांच के बॉटल का उपयोग तो इस मसाज के लिए बिल्कुल न करें।

ध्यान रखें की मसाज के दौरान बॉटल का ढक्कन अच्छी तरह से बंद हो।

इस मसाज के तुरंत बाद नहाने से बचें।

एक्यूप्रेशर रोलर

पैरों के तलवों पर एक्यूप्रेशर रोलर करनें से दर्द से राहत मिलती है। इस क्रिया में पैरों को रोलर पर रखकर धीरे-धीरे घुमाएं। यह क्रिया दिन में कई बार करनी चाहिए। इसे दो मिनट तक करना पर्याप्त रहता है। रोलर करने से पहले तलवों पर हल्का पाउडर लगाएं। इससे एक्यूप्रेशर आसानी से होगा।

मसाज

पैरों को दबाने या मसाज करने से भी आराम मिलता है। तलवों को आराम देने के लिए मसाज करते समय दोनों पैरों के तलवों की ओर अंगूठे के बिल्कुल नीचे पड़ने वाले बिंदु पर दबाव दें।

फिर पैरों के ऊपर छोटी उंगली के नीचे पड़ने वाले तीन बिंदुओं पर दबाव दें। इसके बाद पैरों के नीचे एड़ी पर पड़ने वाले तीन मास्टर बिंदुओं पर दबाव दें।

Comments

comments


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *