जानिए पौराणिक-काल के 6 चर्चित श्राप और उनके पीछे की कथा - हिन्दू धर्मग्रंथो में अनेक श्रापो का वर्णन मिलता हैं। हर श्राप के पीछे कोई न कोई कथा भी हैं । आज हम…

भगवान शिव त्रिमूर्ति में से एक हैं। अन्य दो भगवान विश्व रचयिता बह्मा तथा संरक्षक देवता विष्णु हैं। शिव को विनाशक माना जाता है। उन्हें देवों का देव कहा जाता है। उन्हें असीम, निराकार और…

अगर आप भगवान शिव के बड़े भक्‍तों में से एक हैं तो आपको पता होगा कि इनके 12 प्रमुख ज्‍योतिर्लिंग हैं जो कि पूरे भारत में विराजमान हैं। इसी में से एक है महाकालेश्‍वर मंदिर…

भारतीय शादियों में कई रस्में निभाई जाती है। हालाँकि कई लोग ऐसा मानते हैं कि ये रस्में केवल अंधविश्वास हैं परंतु आपको यह जानकार आश्चर्य होगा कि इनमें से कई रस्मों के पीछे वैज्ञानिक कारण…

  इतिहास दशग्रंथी ब्राह्मण रावण की हत्या के पश्चात अगस्त्य ऋषि ने प्रभु श्रीराम को ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष दशमी के मुहुर्त पर ब्रह्महत्या निरसनार्थ सागर किनारे शिवलिंग की स्थापना करने का आदेश दिया। उस कार्य…

संसार का एक मात्र सत्य मरण है। जिसका जन्म हुआ है उसकी मृत्यु निश्चित है। चाहे संसार का कोई भी चर- अचर, द्रश्य-अद्रश्य जीव हो। अर्थात् मृत्यु अटल सत्य है। जिससे कोई भी नहीं बच…