fbpx
shallow photography of man hugging woman outdoors

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने विवाहित मुस्लिम को अविवाहित हिंदू के साथ लिव-इन रिलेशनशिप में रहने से रोक दिया है

अभूतपूर्व फैसला: इस्लामी कानून बनाम लिव-इन रिलेशनशिप

इस्लामिक कानून और समसामयिक सामाजिक प्रथाओं के अंतर्संबंध को उजागर करने वाले एक महत्वपूर्ण फैसले में, इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने एक महत्वपूर्ण मिसाल कायम की है: मुस्लिम लिव-इन रिलेशनशिप में भाग नहीं ले सकते हैं, खासकर जब पहले से ही शादीशुदा हों।

और पढ़ें: स्थायी प्रेम की कुंजी: एक खुशहाल रिश्ते के 15 रहस्य

इस्लामी सिद्धांत: लिव-इन व्यवस्था में बाधा

अपने निर्णय के आधार के रूप में इस्लामी सिद्धांतों का हवाला देते हुए, न्यायमूर्ति एआर मसूदी और एके श्रीवास्तव ने स्पष्ट किया कि इस्लामी कानून स्पष्ट रूप से व्यक्तियों को लिव-इन रिलेशनशिप में शामिल होने से रोकता है, जबकि उनकी शादी कानूनी रूप से वैध है। हालाँकि, पीठ ने स्पष्ट किया कि अविवाहित वयस्कों के लिए अपवाद मौजूद हो सकते हैं जो स्वेच्छा से सहवास का विकल्प चुनते हैं।

बिंदुवार मामला: पुलिस सुरक्षा से इनकार

यह फैसला उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले के याचिकाकर्ताओं स्नेहा देवी और मोहम्मद शादाब खान से जुड़े एक मामले से आया है। पुलिस सुरक्षा की मांग करते हुए, स्नेहा के माता-पिता द्वारा खान के खिलाफ अपहरण और शादी के लिए मजबूर करने का आरोप लगाने के बाद याचिकाकर्ताओं ने खुद को कानूनी लड़ाई में उलझा हुआ पाया।

वैवाहिक स्थिति मायने रखती है: खान की दुर्दशा

जांच करने पर, अदालत ने खान की वैवाहिक स्थिति का पता लगाया, जिससे पता चला कि वह 2020 से पहले ही फरीदा खातून से शादीशुदा था, जिसके साथ उसकी एक बेटी भी है। इस रहस्योद्घाटन के साथ, पीठ ने इस्लामी सिद्धांतों का हवाला देते हुए, विशेष रूप से इस मामले के संदर्भ में, ऐसे रिश्तों पर आपत्ति जताते हुए, पुलिस सुरक्षा से इनकार करना उचित समझा।

संतुलन अधिनियम: संवैधानिक नैतिकता बनाम सामाजिक रीति-रिवाज

संवैधानिक अनिवार्यताओं और सामाजिक मानदंडों के बीच नाजुक संतुलन बनाते हुए, पीठ ने सामाजिक सद्भाव और शांति बनाए रखने की सर्वोपरिता पर जोर दिया। हालांकि संवैधानिक नैतिकता कभी-कभी प्रथागत प्रथाओं पर हावी हो सकती है, लेकिन पीठ ने कहा कि इस मामले की परिस्थितियों में इस तरह के हस्तक्षेप की आवश्यकता नहीं है।

संवैधानिक सुरक्षा: सशर्त पैरामीटर

विशेष रूप से भारतीय संविधान के अनुच्छेद 21 में निहित संवैधानिक सुरक्षा उपायों की सशर्त प्रकृति को रेखांकित करते हुए, पीठ ने इस बात पर जोर दिया कि ऐसे अधिकार उन रिश्तों का बिना शर्त समर्थन नहीं कर सकते हैं जो स्थापित रीति-रिवाजों और परंपराओं का उल्लंघन करते हैं, खासकर विभिन्न धर्मों को मानने वाले व्यक्तियों के बीच।

न्यायिक निर्देश: सुरक्षित हिरासत सुनिश्चित करना

अपने अंतिम निर्देश में, अदालत ने पुलिस को कड़े सुरक्षात्मक उपायों के तहत उसकी सुरक्षा और कल्याण सुनिश्चित करने की अनिवार्यता को रेखांकित करते हुए, स्नेहा देवी को उसके माता-पिता के निवास पर सुरक्षित वापसी की सुविधा प्रदान करने का निर्देश दिया।

और पढ़ें: भारत में CAA क्या है? भारत के नागरिकता संशोधन अधिनियम को समझना

यह पोस्ट Zindagi Plus English की पोस्ट => Allahabad High Court Prohibits Married Muslim from Live-in Relationships with Unmarried Hindu
का हिंदी अनुवाद है!

1 thought on “इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने विवाहित मुस्लिम को अविवाहित हिंदू के साथ लिव-इन रिलेशनशिप में रहने से रोक दिया है”

  1. you are in reality a good webmaster The website loading velocity is amazing It sort of feels that youre doing any distinctive trick Also The contents are masterwork you have done a fantastic job in this topic

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

लू लगने के लक्षण और इससे बचाव! इन गर्मियों में लुत्फ़ उठाए आम खाने के, बस खाने से पहले कर लें ये काम ! anti ageing कैसे कम करे, उम्र से पहले दिखने लग पड़े हैं aged तो अपनाएं ये टिप्स ! सुनीता विलियम्स का तीसरा अंतरिक्ष मिशन तकनिकी खराबी की वजह से टला शुक्रवार को कर लें ये काम, नही होगी धन की कमी ! Parenting tips: इन टिप्स को करें फॉलो और बने अच्छे पेरेंट्स जाने कितने बादाम खाने से सेहत रहती है तंदरुस्त !