जानिए शिव जी के 12 ज्योतिर्लिंग एवं उनका महत्व


6- भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग (Bhimashankar Jyotirlinga)-

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र के पूणे जिले में सह्याद्रि नामक पर्वत पर स्थित है। भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग को मोटेश्वर महादेव के नाम से भी जाना जाता है। इस मंदिर के विषय में मान्यता है कि  कुम्भकर्ण का बेटा भीम भगवान् ब्रह्मा के वरदान से अत्याधिक बलवान हो गया था ! बल के मद में अंधा होकर उसने जनता पर शिवभक्तों पर अत्याचार करना शुरू कर दिया था ! इंद्र देव को भी उसने युद्ध में हरा दिया था ! शिवभक्त राजा सुदाक्षण को उसने कारागार में डाल दिया था ! सुदाक्षण ने कारागार में शिवलिंग बनाकर उसकी पूजा-अर्चना शुरू कर दी ! इसकी जानकारी मिलते ही एक दिन भीम वहां आ गया और उसने शिवलिंग को अपने पैरों से रौंध डाला क्रोधित होकर भगवान् शिव वहां प्रगट हुए और राक्षसराज भीम का वध कर दिया। तभी से इस ज्तोतिर्लिंग का नाम भीमाशंकर पड़ गया। इस ज्योतिर्लिंग के विषय में ऐसी मान्यता भी है, कि जो भक्त श्रृद्धा से इस मंदिर के प्रतिदिन सुबह सूर्य निकलने के बाद दर्शन करता है, उसके सात जन्मों के पाप दूर हो जाते हैं तथा उसके लिए स्वर्ग के मार्ग खुल जाते हैं।

bhimashankar temple

bhimashankar jyotirlinga

 


Related posts

Leave a Comment