अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस: जो युवा अपनी जींस नहीं संभाल सकता, वह बहन की रक्षा कैसे करेगा’


अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर राजस्थान महिला आयोग की अध्यक्ष सुमन शर्मा का युवाओं को संदेश :

आयोग की अध्यक्ष सुमन शर्मा ने नई पीढी के युवाओं पर कटाक्ष करते हुए कहा है कि जो युवा अपनी लटकती जींस संभाल नहीं सकता, वह अपनी बहन की रक्षा कैसे कर सकता है।

उन्होंने कहा कि जो युवा कमर से नीचे की जींस पहनते हों और जिनकी चौड़ी छाती नहीं है वह अपनी बहन की रक्षा कैसे कर सकता है। शर्मा अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित कर रही थी।

ये भी पढ़ें : Women’s Day Special: दिल्ली की सड़कों पर सुपर बाइक से फर्राटा भरती है ये लड़की

उन्होंने कहा कि आज हमारी युवा पीढी कहां जा रही है? एक समय था जब हम ऐसे युवा की कल्पना करते थे जिनकी छाती चौड़ी हो, लेकिन आज अगर आप देखो तो चौड़ी छाती नजर नहीं आती। आज युवा लटकती जींस पहनते हैं, जो युवा अपनी जींस नहीं संभाल सकता वह अपनी बहनों की रक्षा कैसे करेगा।

जीरो फिगर तो लड़कियों के लिए है लेकिन लड़कों को क्या हुआ

उन्होंने कहा कि मैं जब आज के लडकों को देखती हूं तो मेरे दिमाग में विचार आता है कि हमारी नई पीढी कहां जा रही है। जीरो फिगर का विचार तो लडकियों में होता है लेकिन लड़कों को क्या हुआ। लडके आजकल कानों में बालियां पहन कर लडकियों की तरह दिखाते है।

राजस्थान महिला आयोग की अध्यक्ष सुमन शर्मा ने कहा कि मैं आलोचना नहीं कर रहीं हूं लेकिन हमें बदलाव की जरुरत है, यह हमारी जिम्मेदारी है, माताओं की जिम्मेदारी है कि वे बच्चों को संस्कारवान बनाएं।

पुरुष महिलाओं के बिना पंगू है

उन्होंने कहा कि पुरुष महिलाओं के बिना पंगू है। पुरुष लोग बाहर से कठोर दिखते है, लेकिन अंदर से नरम होते है लेकिन महिलाएं जितनी बाहर से नरम दिखाई देती है, अंदर से उतनी मजबूत होती हैं।

ये भी पढ़ें : महिला दिवस विशेष: जानिए उन 5 महिलाओं के बारे में जिन्होंने पूरी दुनिया में मनवाया अपनी प्रतिभा का लोहा

राजस्थान महिला आयोग की अध्यक्ष सुमन शर्मा ने कहा कि पुरुष और महिलाएं समानांतर होते है और इस प्रणाली के साथ छेडछाड नहीं होनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि आजादी के नाम पर महिलाओं में इतना खुलापन नहीं होना चाहिए कि परिवार और समाज में असंतुलन पैदा हो जाए। उन्होंने कहा कि महिलाओं को कमजोर महसूस नहीं करना चाहिए और उन्हें हर दिन, हर घंटे महिला दिवस मनाना चाहिए।

इस अवसर पर महिला सशक्तीकरण की दिशा में काम करने वाली महिलाओं को सम्मानित किया गया।

साभार : फर्स्ट पोस्ट


Related posts

Leave a Comment