हिमालय में साधुओं के सैकड़ों साल जीने, टैलीपैथी से बात करने जैसे चमत्कारिक किस्से तो आपने भी सुने होंगे. लेकिन आज हम आपको एक ऐसे साधु के बारे में बता रहे हैं जो न सिर्फ़ गंगोत्री में साधना में लीन रहा बल्कि साठ बरस से हिमालय में रहने के दौरान उसका इस पर्वतमाला से ऐसा रिश्ता बना कि वह पर्वतारोही, फ़ोटोग्राफ़र, घुमक्कड़ बन गया. और घुमक्कड़ ऐसा कि 62 की जंग में भारतीय सेना ने उससे मदद मांगी, फ़ोटोग्राफ़र ऐसा कि खींची तस्वीरें का वजन आठ क्विंटल से ज़्यादा हो गया है और पर्वतारोही ऐसा कि 25 चोटियों पर शौकिया आरोहण कर लिया.

आज 92 साल के सुंदरानंद को हिंदी के साहित्यकार विष्णु प्रभाकर ने अपनी पुस्तक हिमालय पुंज समर्पित की तो पूर्व प्रधानमंत्री और कवि अटल बिहारी वाजपेयी ने एक कविता उनके नाम लिख दी. हालांकि हिमालय और साहित्य से उनका नाता 62 साल पहले शुरू हुआ था जब तपोवन महाराज की लिखी किताब हिमगिरी विहार उन्होंने पढ़ी थी.

himalaya

 

आंध्र प्रदेश के नेल्लोर ज़िले के निवासी सुंदरानंद इस किताब को पढ़कर इतने प्रभावित हुए कि सीधे ऋषिकेश तपोवन महाराज के आश्रम पहुंच गए. वह फिर तपोवन महाराज के चरणों में बैठकर उन्होंने हिमालय और भक्ति, योग की साधना शुरू की.

sundaranand

आज उन्हें 300 से ज़्यादा आसन जानने वाले, 25 से अधिक चोटियों पर शौकिया तौर पर आरोहण करने वाले, शेरपा तेनिजंग नोरगे, एडमंड हैलरी के साथ रोहतांग ग्लेशियर में हाईएल्टीटयूड कैंप में प्रशिक्षण लेने वाले योगी और गंगोत्री हिमालय के चलते-फिरते विकीपीडिया के रूप में लोग जानते हैं.

यह भी पढ़ें: जानिए प्राचीन काल में कितना विशाल था भारत, कहाँ तक फैली थी भारतीय संस्कृति

62 साल के हिमालय प्रवास के दौरान सुंदरानंद न सिर्फ़ हिमालय के प्राकृतिक, भौगोलिक, सामाजिक बदलाव के गवाह बने बल्कि यहां के उतार-चढ़ावों का दस्तावेज़ीकरण भी किया.

sundaranand

 

हिमालय की अलौकिक छटा से अभिभूत होकर उसकी तस्वीरें उतारने की चाह मन में जागी तो 1956 में उन्होंने बेल्जियम के पर्यटकों से 25 रुपये में एक कैमरा ख़रीदा और फिर शुरू हुआ हिमालय की बेपनाह खूबसूरती को कैमरे में कैद करने का सिलसिला.

यह भी पढ़ें: गुरु पर्व विशेष: जब बालक गुरु नानक के सामने छोटा पड़ गया था मौलबी का ज्ञान

स्वामी सुंदरानंद के पास करीब आठ कुंतल फ़ोटोग्राफ़्स हैं, जो उत्तर से लेकर पूर्वोतर हिमालय के जीवंत रिकॉर्ड हैं. इसमें अकेले गंगोत्री हिमालय की पचास हजार से अधिक तस्वीरें हैं. ये कोई आम फ़ोटोग्राफ़्स नहीं बल्कि पिछले साठ सालों की हिमालयी उथल-पुथल के जीवंत दस्तावेज हैं. ये फ़ोटोग्राफ़्स बताते हैं कि गाय के मुख वाला गोमुख कभी जहां था, आज वहां से दो किलोमीटर पीछे खिसक गया है.

sundaranand gaumukh

 

पांच बार ऑल इंडिया फोटोग्राफी फेडरेशन कनवेंशन में मेडल जीतने वाले सुंदरानंद अपनी फ़ोटोग्राफ़ी को मां गंगा का आशीर्वाद कहते हैं. वह कहते हैं कि अब गंगा के ऋण से उऋण होने का समय आ गया है. उनकी इन तस्वीरों को अब आम लोग भी देख पाएंगे. गंगोत्री में गंगा के तट पर बनाई गई हिमालयन आर्ट गैलरी में इन्हें प्रदर्शन के लिए रखा जाएगा. करीब 10,310 फीट की ऊंचाई पर यह आर्ट गैलेरी उन्होंने अपने दो करोड़ रुपये लगवाकर बनाई है.

sundaranand tapovan kuti

 

सुंदरानंद को यह यह धनराशि मुख्यतः 2002 में लिखी उनकी किताब, ‘हिमालय: थ्रू अ लेंस ऑफ साधु’ की रॉयल्टी से मिली है. इसका विमोचन तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने किया था. दरअसल सुंदरानंद सिर्फ़ एक योग साधक, साधु और फ़ोटोग्राफ़र ही नहीं हैं. हिमालय की उनकी यात्राओं ने उन्हें कुशल पर्वतारोही भी बना दिया. वह 19 हज़ार, 510 फ़ीट की ऊंचाई पर स्थित बद्रीनाथ-कालिंदीपास ट्रैक को आठ बार सफलतापूर्वक तय कर चुके हैं और उन्होंने कुल 25 से अधिक चोटियों का आरोहण किया है.

sundaranand

 

हिमालय के इस यायावार की 1962 के भारत चीन युद्ध के दौरान सेना ने भी मदद ली थी क्योंकि सुंदरानंद हिमालयी दर्रों से चिर परिचित थे और सेना को एक पथ प्रदर्शक की आवश्यकता थी. हिमालय के अध्येता और 62 साल के हमसफ़र सुंदरानंद के फ़ोटोग्राफ़र और यायावर व्यक्तित्व की कुछ झलक तो गंगोत्री में शुरू होने वाली आर्ट गैलेरी से मिलेगी लेकिन उनके जीवन में बहुत कुछ ऐसा है जिसे लोग जानना चाहेंगे.

himalaya

 

ओएनजीसी से रिटायर अधिकारी सचिकांत शर्मा उनकी जीवनी लिख रहे हैं जिससे हिमालय में गुंथे हुए उनके बहुआयामी व्यक्तित्व के बारे में लोग ठीक से जान पाएंगे.

source: news18.com

Comments

comments


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *