श्रावण मास: 19 साल बाद बना दुर्लभ संयोग, इन धाराओं से करें जलाभिषेक मुर्ख भी हो जायेंगे बुद्धिमान

shravan_2018

हिन्दू धर्म में सावन का खास महत्व :- हिन्दू धर्म में सावन या श्रावण महीने का खास महत्व है। इस साल श्रावण महीने की शुरुआत 27 जुलाई से हो रही है। 26 अगस्त को श्रावण मास का आखिरी दिन होगा। यानि पूरे तीस दिन ,19 साल बाद बना ऐसा दुर्लभ संयोग। इस महीने में भगवान…

Read More

होली 2018: जानिए कब है होली और क्या है होलिका का शुभ मुहूर्त

होली रंगो का त्योहार : हर त्यौहार का अपना अलग रुप और रंग  है। जिसे बड़े ही भाव के साथ हम भारतीय आनंद और उल्लास के साथ मनाते हैं। लेकिन हरे, पीले, लाल, गुलाबी जैसे सप्तरंगों का भी एक त्यौहार सिर्फ देश ही नहीं पूरी दुनिया में जहां कहीं भी हिंदू धर्म के मानने वाले…

Read More

जब हिन्दू धर्म की रक्षा के लिए बलिदान हो गए थे गुरु गोविन्द सिंह जी के साहिबजादे

फतेहगढ़ साहिब में शहीदी जोड़ मेला शुरू हो चूका है, आज हम आपको बताने जा रहे हैं 26 दिसंबर 1704 को गुरुगोबिंद सिंह के दो साहिबजादे जोरावर सिंह और फतेह सिंह को इस्लाम धर्म कबूल न करने पर सरहिंद के नवाब ने दीवार में जिंदा चुनवा दिया था, माता गुजरी को किले की दीवार से…

Read More

नवरात्रि का पर्व मां दुर्गा के पूजन और पवित्र आध्यात्मिक वस्तुओं से मनाएं, पाएं मनोवांछित फल…

नवरात्रि का पर्व मां दुर्गा के पूजन का पर्व, नारी शक्ति का प्रतिक : यह नवदुर्गाओं की शक्ति उपासना का पर्व और आध्यात्म की गंगा में बहने का पर्व है। इस शक्ति पर्व के दौरान की गई मनोवांछित फल प्राप्ति साधनाएं, मानव सेवा के प्रति आपका समर्पण, शुद्ध वाणी का प्रयोग, वर्ष भर आपको शक्ति और सफलता…

Read More

नंदी बैल कैसे बना शिव की सवारी जाने रहस्य…………..

lord shiva nandi bull

हिन्दू धर्म में माँ बाप अपने बच्चे को बचपन से ही सिखा देते है, की कभी भी किसी जीव को नुकसान नहीं पहुँचाना है। किसी भी जीव की हत्या नही करनी है। सबसे खास बात हिन्दू धर्म में प्रकृति और पशु-पक्षियों को भी दया की दृष्टि से देखने की बात कही जाती है। हिन्दू देवी-देवताओं…

Read More

हिन्दू धर्म में क्यों पूज्यनीय है गाय

हिन्दू धर्म में गाय पवित्र व माता क्यों मानी जाती है? हिन्दू धर्म में गाय को मां की तरह पूजा जाता है।  इस धरती पर पहले गायों की कुछ ही प्रजातियां होती थीं। प्राचीन काल में गाय की एक ही प्रजाति थी। सबसे पहले गुरु वशिष्ठ ने गाय के कुल का विस्तार किया और उन्होंने…

Read More