बंगाल में 36 साल पहले 17 आनंद मार्गी साधुओं को जिन्दा जलाकर मार दिया गया था.  30 अप्रैल 1982 को देशभर से साधू आनंदमार्गी एक ‘एजुकेशनल कॉन्फ्रेंस’ के लिए तिलजला केंद्र पर जा रहे थे.…