प्राचीनकाल में जब मन्दिर बनाए जाते थे तो वास्तु और खगोल विज्ञान का ध्यान रखा जाता था। इसके अलावा राजा-महाराजा अपना खजाना छुपाकर इसके ऊपर मन्दिर  बना देते थे और खजाने तक पहुंचने के लिए…

भारत विविधताओं का देश है. इस गतिशील देश में कुछ ही किलोमीटर के बाद भाषा से लेकर पहनावा तक बदल जाता है. पर यहां के लोग बदलाव को बदलाव नहीं बल्कि संस्कार मानते हैं. दुर्भाग्यवश…