राम मंदिर हिन्दुओं के लिए केवल मुद्दा नहीं वल्कि उनकी आस्था का सवाल है. इसलिए कहा जाता है की आस्था के मामले में किसी भी तरह का कोई भी प्रशन चिन्ह खडा नहीं किया जा सकता. सालों से लंबित मामले के विषय पर आज सुप्रीम कोर्ट ने एक बेहद व अहम टिप्पणी करते हुए कहा है कि राम मंदिर का मुद्दा कोर्ट के बाहर बातचीत से हल किया जाना चाहिए, और वही बेहतर रहेगा. मुख्य न्यायधीश जगदीश सिंह खेहर ने कहा कि दोनों पक्षों को मिल-बैठकर इस मुद्दे को कोर्ट के बाहर हल करना चाहिए. कोर्ट के मुताबिक दोनों पक्ष इसके लिए वार्ताकार तय कर सकते हैं, जो विचार-विमर्श करें.

वहीँ दूसरी और भाजपा नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी ने कोर्ट से आग्रह किया था कि वह पिछले 6 साल से लंबित राम मंदिर अपील पर सुनवाई करे. उन्हौने कहा सुप्रीम कोर्ट को इस मामले पर रोज़ाना सुनवाई कर जल्द फैसला सुनाना चाहिए. इस पर सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जगदीश सिंह खेहर ने कहा कि यह मामला धर्म और आस्था से जुड़ा हुआ है, इसलिए दोनों पक्ष आपस में बैठें और बातचीत के ज़रिये हल निकालने की कोशिश करें तो ज्यादा बेहतर होगा. हालांकि सुब्रह्मण्यम स्वामी ने कहा कि दोनों समुदाय इस मुद्दे को लेकर हठी हैं, और साथ नहीं बैठेंगे.

मुख्य न्यायधीश ने यह भी कहा कि इस मामले में ज़रूरत पड़ने पर सुप्रीम कोर्ट के जज भी मध्यस्थता करने के लिए तैयार हैं. उन्होंने कहा कि अगर दोनों पक्ष आपसी बातचीत से कोई हल नहीं निकाल पाते, तो फिर कोर्ट इस मामले की सुनवाई कर फैसला देने के लिए तैयार रहेगा, लेकिन फिलहाल दोनों पक्षों के सभी लोग टेबल पर बैठकर बातचीत करेंगे, तो ज्यादा अच्छा होगा. सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को 31 मार्च को फिर से मेंशन करने को कहा है. राम मंदिर को लेकर एक और बीजेपी गंभीर होती दिखाई दे रही है तो वहीं विरोधियों का पारा भी सातवें आसमान पर जाता हुआ दिखाई दे रहा है.

हालांकि इसमें कोई दो राय या दोमत नहीं की अयोध्या में पहले भी राम मंदिर था जिस पर जबरदस्ती विदेशी आक्रान्ताओं ने आक्रमण करके  खंडित कर मस्जिद का निर्माण किया था. लेकिन मुगलों के वंशज अब इस हकीकत को मानने के लिए कदापि तैयार नहीं. अब जबकि उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वाले योगी आदित्यनाथ भी इस मामले में गंभीर दिखाई दे रहे हैं. वहीँ देश के पूरे हिन्दुओं को जल्द राम मंदिर निर्माण को लेकर उत्सुकता बनी हुई है. फिलहाल देखना यह है की इस पर अंतिम फैसला क्या आता है.

देखिये वीडियो राम मंदिर मुद्दे पर क्या बोले सुब्रह्मण्यम स्वामी :-

Comments

comments


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *