किसी की जान बचाने के लिए खुद की जान दांव पर लगा देेना हर किसी के बस की बात नहीं। एेसी बातें अकसर फिल्मों में देखने को मिलती हैं। एेसा ही सीन अापने फिल्म ‘बाहुबली’ में देखा ही होगा जब राजमाता नवजात बाहुबली को बचाने के लिए उफनती नदी में कूद पड़ती हैं। बाहुबली को वो बचा लेतीं है लेकिन खुद की जान गंवाकर।

real life bahubali 4

इस बार जो हुअा वो फिल्मी नहीं हकीकत है,जी हां हम बात कर रहे हैं बांग्लादेश के नोआखाली की जहां कई दिनों से लगातार बारिश हो रही है अौर कई नदियां उफान पर हैं।  एेसे ही एक नदी के बीच में एक बच्चा बह रहा था। वह अपने परिवार से बिछड़कर इस उफनती नदी में फंस गया जिसे  बचाने के लिए 12-13 साल का बच्चा नदी में कूद गया। लोग तमाशा देख रहे थे लेकिन मदद के लिए उठा एक नन्हां हाथ।

real life bahubali

वे बच्चा उस डूबते बच्चे तक पहुंचा और उसे एक हाथ से उठा लिया। किशोर पूरी तरह नदी में डूब चुका था। नदी का पानी उसके सिर के ऊपर से बह रहा था लेकिन किशोर ने बच्चे को सिर के ऊपर सुरक्षित तरीके से उठा रखा था।

real life bahubali 2

किनारे पर खड़े लोग संदेह में थे कि अब यह किशोर नदी के बाहर आ पाएगा या नहीं  लेकिन कुछ ही देर में किशोर का चेहरा फिर नदी के ऊपर दिखाई दिया और  थोड़ी देर बाद बच्चे के साथ नदी के किनारे पर खड़ा हो गया। लोगों ने जब देखा तो उसके हाथ में कोई  इंसान का नहीं बलकि हिरन का बच्चा था। इस बच्चे को देखकर लोगों को समझ में अाया कि जान की कीमत क्या होती है फिर चाहे वो इंसान की हो या जानवर की।  जब लोगों ने हिरन के बच्चे को अपने बिछड़े परिवार से मिलते देखा तो उनका सारा डर काफूर हो गया।

Comments

comments


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *