बच्चों के 8 ऐसे शौकिये पेशे जिस को भारतीय माता-पिता पसंद नही करते


भारतीय माँ-बाप बचपन से ही अपने बच्चे के सुनहरे भविष्य के लिए तयारी शुरू कर देते है। परन्तु कुछ बच्चे हैट कर करना चाहते है। वह अपने शौक को ही अपने पेशे के रूप में अपनाना चाहते है। शौक से आपके मन को ध्‍यान जैसी ही शांति मिलती है। आपकी परेशानियां कम हो जाती हैं। अपनी शौक को अपनी रचनात्‍मकता से जोड़कर देखिये आपको कितना फायदा होगा। आईये जाने ऐसे ही कुछ कॅरियर  के बारे मे :

संगीत

संगीत का शौक तो लगभग हर किसी को होता है और तनाव को दूर करने का यह सबसे अच्छा साधन भी माना जाता है। अगर आपको घर मे समय नहीं मिलता है तो लंबी दूरी तय करने के दौरान अपनी पसंद का संगीत सुनें। स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय में शोधकर्ताओं के अनुसार, लयबद्ध संगीत मस्तिष्क को उत्तेजित कर मस्तिष्क संबंधी समस्‍याओं के इलाज के लिए एक चिकित्सकीय प्रभाव देता है। एक परिचित माधुर्य के साथ कोमल संगीत से तनाव हार्मोन कोर्टिसोल के स्तर को कम करने में मदद मिलती है। लेकिन ध्‍यान रहें किे अगर आप हैडफोन मदद से संगीत सुनते हैं तो आवाज ज्यादा तेज ना हो। इससे कान खराब होने का डर होता है। अपनी पसंद के गाने सुनें और उनका पूरा आनन्‍द लें। इससे आपका तनाव दूर और मन प्रसन्न हो जाएगा।

 

बागवानी

बागवानी एक पुरस्कृत शौक है और साथ ही तनाव को कम करने वाला भी। बागवानी आपको प्रकृति के नजदीक लाती है। मिट्टी की गंध, हवा और सूरज की रोशनी यह सभी दिमाग को शांत और मन को बेहतर बनाने में मदद करते है। इसके अलावा, बागवानी में कार्यों का दोहराव की प्रकृति मन को शांत करने में मदद करती है। वैज्ञानिकों के अनुसार, मिट्टी में मौजूद बैक्‍टीरिया मस्तिष्क की कोशिकाओं को न्यूरोट्रांसमीटर सेरोटोनिन का उत्पादन करने में मदद करते हैं, जो अवसादरोधी की तरह कार्य करता है। शोधकर्ताओं का मानना है कि मिट्टी का बैक्‍टीरिया व्‍यवहार सीखने में भी मदद करता है। इसके अलावा जब हम बाहर खुले वातावरण में जाकर पौधे लागते, उनमें पानी देते हैं और फूलों की प्रशंसा करते हैं तो हमारा दिमाग प्राकृतिक रूप से रिलैक्स महसूस करता है।

 

पेटिंग

जोहान वोल्फगैंग वॉन गेटे कहते हैं, कला के माध्यम से दुनिया का बेहतर तरीके से उद्धार किया जा सकता है। पेटिंग अपने मन को शांत करने का बहुत ही सुंदर और सुखदायक तरीका है। अलग-अलग रंग के एनर्जी का स्‍तर अलग होता है और आपके मूड को प्रभावित करता है। नीले को शांति, बैंगनी को रचनात्‍मकता और मेडिकेशन, हरे को ताजगी, पीले को आशावाद, नारंगी को उत्साह और लाल को जुनून के साथ जुड़ा हुआ पाया जाता है। इस मनोरंजक हॉबी से आपकी रचनात्मकता बढ़ने लगती है जिससे आपका दिमाग तेज बनता है। वास्तव में, यह रचनात्मकता तनाव रिलीवर के रूप में काम करती है जिससे मन में दबी तनाव और क्रोध को दूर करने में मदद मिलती है।

 

फोटोग्राफी

फोटोग्राफी एक और रचनात्‍मक और मजेदार शौक है। फोटोग्राफर के लेंस के माध्यम से दुनिया को अलग तरह से देखने का अहसास गहरा और मननशील अभ्‍यास हो सकता है। इसमें सौंदर्य और उद्देश्‍य की खोज के शामिल तथ्‍य, आपका ध्‍यान इन चीजों पर केंद्रित कर फोटोग्राफी की कला काफी सुखद और संतोषजनक बना देते है। इसके अलावा, चित्रों में जीवन के सुंदर पक्ष की सराहना करने से आपका दृष्टिकोण भी सकारात्मक बनता है।

 

पढ़ना और लिखना

मन को शांत रखने के लिए पढ़ना और लिखना बहुत ही पुराना तरीका है। अच्‍छी किताबे पढ़ते समय आपको आश्‍चर्य होगा कि आप उनमें कितनी जल्दी खो जाते हैं कि आपको आस-पास की दुनिया की भी खबर नहीं रहती। अच्छी किताब पढ़ें, अपना ज्ञान बढ़ाएं और अपने आपको नई उर्जा से सरोबार करें। जब आप दिमाग में चलने वाली बातों को पर्सनल डायरी लिखने से समस्याओं को क्रिएटिव तरीके से दूर करने का मौका मिलता है और यह आपकी कल्पनाशीलता को बढाता है। ब्रिटेन की येल यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओ का मानना है कि प्रतिदिन की गतिविधियों और भावनाओं को लिखने से आत्मनिरीक्षण में मदद मिलती है। इससे मन को शांत रखने में मदद मिलती है।

 

कुकिंग

हालांकि कुछ लोगों के लिए कुकिंग थकाऊ घरेलू काम हो सकता है, लेकिन जो लोग इसका आनंद लेते हैं उन लोगों के लिए यह सुखद और तनाव को कम करने वाला शौक है। यह आपके दिमाग को साफ करने वाली चिकित्सा के रूप में, और एक रचनात्मक आउटलेट के रूप में कार्य करता है। खाना बनाने से आप उसे बनाने पर ध्यान देते हैं और कोशिश करते हैं कि इसे कैसे टेस्टी बनाया जाए, चूंकि यह आपको अपनी कल्पना और रचनात्मकता दिखाना का मौका देता है इसलिए यह आपकी चिंताओं को मिटा कर तनाव से राहत देने का काम करता है।

 

डांस

डांसिंग यूं तो एक मनोरंजन का ही साधन माना गया है लेकिन क्या आप जानते हैं कि डांस अर्थात् नृत्य करके आप अपनी सारी चिंताएं और तनाव दूर भगा सकता हैं। यह शरीर को उत्‍तेजित कर मन को विस्‍तार करने की अनुमति देता है। ताई ची, एक धीमी गति का डांस है। इसके अभ्यास से तनाव कम होता है। हालांकि कोई ऐसी रिसर्च तो नहीं हुई है जिसमें ताई-ची के तनाव पर प्रत्यक्ष प्रभाव के बारे में बताया गया हो लेकिन ताई-ची के अभ्यास के दौरान जिस श्वसन, गतिविधि और मानसिक एकाग्रता की आवश्यकता होती है, वह आपका ध्यान व्यस्त जीवनशैली से हटा देता है। मन और शरीर के कनेक्शन के लिए विशेष ध्यान की जरूरत होती है, जो शरीर में शांति लाता है। यह मजेदार शौक भी, दिल और फेफड़ों की हालत में सुधार में मदद करता है, आत्मविश्वास को बढ़ता है और एरोबिक फिटनेस को बढ़ावा देता है।

Source- Google


Related posts

Leave a Comment