भारत में बीजेपी के बढ़ते कदम एक और हिंदूवादी संगठनो के लिए ख़ुशी के लम्हे प्रतीत होते हैं तो वहीँ वामपंथी विचारकों और इस्लामिक अनुयायियों के किसी भयंकर दर्द से कम नहीं . जैसे जैसे बीजेपी लोकतांत्रिक व्यवस्था में एक के बाद एक राज्य पर अपनी जीत का परचम जा रही है उसे देख कर भारत के भगवाकरण का रोना रोने वालों का पेट दर्द भी बढ़ता दिखाई दे रहा है. मगर यह ठीक वैसा ही है जैसे खिसयानी बिल्ली खम्बा नोचे वाली बात हो. खैर बीजेपी, भारत और हिन्दुत्व के विरोधियों के लिए अभी हाल ही में जो सबसे बड़ा झटका लगा वो उत्तर प्रदेश और उतराखंड समेत मणिपुर और गोवा में बीजेपी की सरकार का बनना माना जा रहा है.

पूर्वाग्रह से ग्रसित विरोधी हर पल यही झूठ फैलाने का प्रपंच रच रहे हैं की भाजपा पूरे देश का भगवाकरण करना चाहती है. इसके लिए वाकायदा विरोधी आये दिन सोशल मीडिया पर पीएम मोदी और अब यूपी के सीएम योगी को बदनाम करने का दुश्चक्र रच रहे हैं. तरह तरह के हथकंडे अपना रहे हैं. सर्वविदित है की देश के अन्दर वामपंथियों और मुस्लिमो ने पीएम मोदी पर हमेशा ही साम्प्रदायिक होने का आरोप लगाया है और उनका या कुप्रयास आगे भी जारी है. लेकिन समय समय पर इस्लाम के अनुयायिओं में से ही कुछ सच को सच कहने की हिम्मत रखने वाले आगे आकर इन तमाम ठेकेदारों के गाल पर झन्नाटेदार तमाचा जड़ते रहे हैं.

हाल ही में यूपी के सीएम बनने पर योगी जी को भारतीय क्रिकेटर महोम्मद कैफ ने उनको बधाई देते हुए उनकी तारीफ की थी और अब क्रिकेटर इरफ़ान पठान ने उन तमाम वामपंथी और इस्लामिक बुद्धिजीवियों जो मोदी को साम्प्रदायिक बताते हैं, के मुंह पर करारा तमाचा जड़ते हुए कहा है मोदी जी उनकी जीवन के प्रेरणा स्त्रोत हैं. मोदी साम्प्रदायिक नहीं वल्कि सोहार्दप्रिय व्यक्तितव वाले हमारे पीएम हैं. उनके बारे में जितनी तारीफ की जाए कम है. पठान ने बताया की जब हम दोनों भाई भारतीय क्रिकेट टीम में खेलते थे और अच्छा प्रदर्शन करते थे मोदी जी हमसे मिलने हमारे घर आते थे और हमारे शानदार प्रदर्शन के लिए हमें बधाई भी देते थे. इरफ़ान पठान द्वारा मोदी की इस तारीफ के चलते कट्टरपंथियों को फिर से दर्द होना शुरू हो गया है. क्यूंकि कट्टरपंथी लोगों को डर लगने लगा है की उनके अपने ही धर्म के लोग उनके विरुद्ध जाकर मोदी जी को पसंद करने लगे हैं और उन पर विश्वास भी जताने लगे हैं. इसलिए कट्टरपंथियों को अब मान लेना चाहिए की धर्म के नाम पर अंधविश्वास के सहारे सदियों से चलाई जा रही दुकाने अब बंदी के कागार पर पहुँच चुकी हैं. अभी भी समय है मोदी जी पूर्व की और से उदय हुए सूरज हैं उनके साथ बड़ो, क्यूंकि पूर्व की और बढ़ने से ही विकास संभव है वरना पश्चिमी की और बढोगे तो डूबना निश्चित है.

देखें विडियो :-

Comments

comments


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *