एलर्जी गंभीर परेशानी :-

एलर्जी या अति संवेदनशीलता आज की लाइफ में बहुत तेजी से बढ़ती हुई सेहत की बड़ी परेशानी है कभी कभी एलर्जी गंभीर परेशानी का भी सबब बन जाती है जब हमारा शरीर किसी पदार्थ के प्रति अति संवेदनशीलता दर्शाता है तो इसे  एलर्जी कहा जाता है और जिस पदार्थ के प्रति प्रतिकिर्या दर्शाई जाती है उसे एलर्जन कहा जाता है l

allergy

एलर्जी किसी भी पदार्थ से ,मौसम के बदलाव से या आनुवंशिकता जन्य हो  सकती है एलर्जी के कारणों में धूल ,धुआं ,मिटटी पराग कण, पालतू या अन्य जानवरों के संपर्क में आने से ,सौंदर्य प्रशाधनों से ,कीड़े बर्रे आदि के काटने से,खाद्य पदार्थों से एवं कुछ अंग्रेजी दवाओ के उपयोग से एलर्जी हो सकती है सामान्तया एलर्जी नाक ,आँख ,श्वसन  प्रणाली ,त्वचा  व खान पान से सम्बंधित होती है किन्तु कभी कभी पूरे शरीर में एक साथ भी हो सकती है जो की गंभीर हो सकती हैl

यह भी पढ़ें : आलर्ट हो जाएँ, हार्ट अटैक के लक्षण पहले से ही दिखने लग जाते हैं , जाने कैसे ?

एलर्जी जैसे रोगों से बचने में रोगी के खान पान और रहन सहन का बहुत अधिक महत्व होता है। अपने खान पान और रहन सहन को ठीक रखते हुए आप हमारे द्वारा बताए गए उपायो को जरूर अपनाएं। जो आपको एलर्जी से लड़ने में मदद करेंगे। एलर्जी से छुटकारा पाने के लिए कई अंग्रेजी दवाएं तो मौजूद है ही, लेकिन यह बीमारी को जड़ से ख़त्म नहीं करती है। वहीं घरेलू उपायों को अपनाकर एलर्जी से बचा जा सकता है।

एलर्जी का असर कैसा होता है :-

एलर्जी से कुछ लोगों को कोई परेशानी नहीं होती, जबकि कुछ को उस स्थान पर दर्द, खुजली, छाले पड़ना, छाले फूटकर पानी निकलना, घाव हो जाना आदि समस्याएं हो जाती हैं। अगर सही समय पर इस पर ध्यान न दिया जाए तो त्वचा रोग भी बन सकते हैं। इसके अलावा कई बार प्लास्टिक की चीजों जैसे नकली आभूषण, बिंदी, परफ्यूम, चश्मे के फ्रेम, साबुन आदि से भी एलर्जी हो जाती है। इस तरह की एलर्जी को कॉन्टेक्ट डर्मेटाइटिस कहा जाता है।

एलर्जी से छुटकारा पाने के लिए आप नीबू के रस में एक चम्मच शहद को मिलाकर एक गिलास गुनगुने पानी में मिला दें। इसे आप रोजाना सुबह कई महीनों तक पिएं। इससे आपका इम्यून सिस्टम इतना मजबूत हो जाएगा कि शायद ही एलर्जी हो।

पानी की भाप, यह किसी भी तरह की एलर्जी के इलाज के बेहतरीन तरीकों में से एक है।

यह भी पढ़ें :स्वास्थ्य का खज़ाना- गेंहू के ज्वारे/ wheatgrass

नीम की पत्तियों को पीसकर पेस्ट बना लें और उस पेस्ट की छोटी-छोटी गोलियां बना लें, इसे शहद में डुबोकर रोज सुबह खाली पेट इसे निगल लें। अगले एक घंटे तक कुछ न खाएं, ताकि नीम का आपके शरीर पर असर हो सके। यह तरीका हर तरह की एलर्जी में फायदा पहुंचाता है।

अगर एलर्जी है तो ये मत करिए:-

त्वचा में खुजली न करें।
जिस साबुन का आप नियमित रूप से इस्तेमाल कर रही हैं, उसका इस्तेमाल करना बंद कर दें। साबुन के कारण त्वचा रूखी हो जाती है और खुजली बढ़ जाती है।
रोज नहाएं। डॉक्टर की सलाह से साबुन का इस्तेमाल करें।
शरीर को खुली हवा लगने दें।
सबसे महत्वपूर्ण बात, अगर आपको पता चल गया है कि किस चीज से आपको एलर्जी होती है तो उससे दूर रहें।

एलर्जी से बचने के कुछ जरुरी उपाय:-

अगर आप एलर्जी से बचना चाहते हैं, तो अपने घर के आस पास गंदगी को न रहने दें। आप अपने घरों में अधिक से अधिक खुली और ताजा हवा आने का मार्ग प्रशस्त करें। जिन खाद्य पदार्थों से एलर्जी होती है उन्हें न खाएं।बरसात के मौसम में नमी से बचे और इसके अलावा एकदम गरम से ठन्डे और ठन्डे से गरम वातावरण में न जाएं।

यह भी पढ़ें : गो मूत्र से कुछ दिनों में ही कैंसर गायब

बाइक चलाते समय मुंह और नाक पर रुमाल बांधे, आँखों पर धूप का अच्छी क़्वालिटी का चश्मा लगाएं।  गद्दे, रजाई, तकिए के कवर एवं चादर आदि समय समय पर गरम पानी से धोते रहें।  अपने घरों के रजाई ,गद्दे ,कम्बल आदि को समय समय पर धूप दिखाते रहें। पालतू जानवरों से दूर रहें। अगर उनसे एलर्जी है तो उन्हें घर में ना रखें।

ज़िन पौधों के पराग कणों से एलर्जी है उनसे दूर रहे।  घर में मकड़ी वगैरह के जाले न लगने दें।  समय समय पर साफ सफाई करते रहें। धूल मिटटी से बचें, यदि धूल मिट्टी भरे वातावरण में काम करना ही पड़ जाए तो फेस मास्क पहन कर काम करें।

Comments

comments


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *