महिला दिवस 2018 : 8 मार्च ही क्यूँ चुना गया, अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के लिए! जाने इतिहास…

womans day 2018

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस का इतिहास:

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के इतिहास की बात करें तो सबसे पहले इसे साल 1909 में मनाया गया। मताधिकार, सरकारी कार्यकारिणी में जगह, नौकरी में भेदभाव को खत्म करने जैसी कई मुद्दों की मांग को लेकर इस का आयोजन किया गया था।

1913-14 प्रथम विश्व युद्ध के दौरान, रूसी महिलाओं द्वारा पहली बार शांति की स्थापना के लिए फरवरी माह के अंतिम रविवार को महिला दिवस मनाया गया। यूरोप भर में भी युद्ध के खिलाफ प्रदर्शन हुए।

womens day 2018

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस, 8 मार्च 1914 को दर्शाता हुआ एक जर्मन पोस्टर:

हम महिलाओं को मताधिकार दो। महिला दिवस, 8 मार्च 1914। अब तक, भेदभाव और प्रतिक्रियावादी नज़रिए ने उन महिलाओं को पूर्ण नागरिक अधिकार से वंचित रखा है, जिन्होंने श्रमिकों, माताओं और नागरिकों की भूमिका पूरी निष्ठा से अपने कर्त्तव्य का पालन किया है

यह भी पढ़ें : अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर PM करेंगे, राष्ट्रीय पोषण मिशन (एनएनएम) की शुरुआत

एवं जिन्हें नगर पालिका के साथ-साथ राज्य के प्रति भी करों का भुगतान करना होता है। इस प्राकृतिक मानवाधिकार के लिए हर औरत को दृढ़ एवं अटूट इरादे के साथ लड़ना चाहिए। इस लड़ाई में किसी भी प्रकार के ठहराव या विश्राम करने की अनुमति नहीं है।

महिलाओं ने शांति, वोट देने के अधिकार के लिए आंदोलन जारी रखा:

1917 तक विश्व युद्ध में रूस के 2 लाख से ज्यादा सैनिक मारे गए, रूसी महिलाओं ने फिर रोटी और शांति के लिए इस दिन हड़ताल की।

हालांकि राजनेता इस आंदोलन के खिलाफ थे, फिर भी महिलाओं ने एक नहीं सुनी और अपना आंदोलन जारी रखा और इसके फलस्वरूप रूस के जार को अपनी गद्दी छोड़नी पड़ी।

यह भी पढ़ें : महिला दिवस विशेष: जानिए उन 5 महिलाओं के बारे में जिन्होंने पूरी दुनिया में मनवाया अपनी प्रतिभा का लोहा

साथ ही सरकार को महिलाओं को वोट देने के अधिकार की घोषणा भी करनी पड़ी।  इसके बाद इस दिवस को सन् 1975 में संयुक्त राष्ट्र संघ ने मान्यता दी।

इस दिवस का मकसद महिलाओं के प्रति सम्मान व्यक्त करना है:

इस दिवस का मकसद महिलाओं के प्रति सम्मान, उनकी प्रशंसा और उनके प्रति अनुराग व्यक्त करना है। इस दिन खासकर उन महिलाओं के प्रति सम्मान प्रकट किया जाता है।

womens day

जिन्होंने आर्थिक, राजनीतिक और सामाजिक क्षेत्रों में अहम उपलब्धियां हासिल की हैं।अब दुनियाभर के देशों में इसे समारोहपूर्वक मनाया जाता है ।

यह भी पढ़ें : महिला दिवस विशेष: मिलिए पुरुषों का काम करने वाली महिला राज मिस्त्री मीना से

महिला दिवस तब ही सार्थक होगा, जब संपूर्ण आजादी मिलेगी:

सही मायने में महिला दिवस तब ही सार्थक होगा जब विश्व भर में महिलाओं को मानसिक व शारीरिक रूप से संपूर्ण आजादी मिलेगी, जहां उन्हें कोई प्रताड़ित नहीं करेगा।

जहां उन्हें दहेज के लालच में जिंदा नहीं जलाया जाएगा, जहां कन्या भ्रूण हत्या नहीं की जाएगी, जहां बलात्कार नहीं किया जाएगा, जहां उसे बेचा नहीं जाएगा।

यह भी पढ़ें : अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस: जो युवा अपनी जींस नहीं संभाल सकता, वह बहन की रक्षा कैसे करेगा’

समाज के हर महत्वपूर्ण फैसलों में उनके नजरिए को महत्वपूर्ण समझा जाएगा। तात्पर्य यह है कि उन्हें भी पुरूष के समान एक इंसान समझा जाएगा। जहां वह सिर उठा कर अपने महिला होने पर गर्व करे।


Related posts

Leave a Comment