लड़कियों के सोने के तरीकों से जानें लड़कों के मामले में उनकी पसंद

आपने ये तो अक्सर सुना होगा कि किसी के सोने के तरीके से आप उसकी शख्सियत के बारे में काफी कुछ पता लगा सकते हैं। मसलन, जो इंसान सीधा लेटता है वो नियमों का पलन करने वाला होता है। जो अपने पैरों को क्रॉस करके सोते हैं वे अपने ही धुन में रहते हैं। लेकिन,…

Read More

सरदार पटेल का गाँधी को उनके ब्रह्मचर्य के प्रयोगों पर खत

25 जनवरी, 1947 लड़कियों के साथ गांधी के ब्रह्मचर्य के प्रयोगों पर सरदार पटेल के क्रोध की कोई सीमा नहीं थी. गांधी जब मरियम-हीरापुर में थे तब पटेल ने लिखा था, ‘‘किशोर लाल मशरूवाला, मथुरादास और राजकुमारी अमृत कौर के नाम आपके पत्र पढ़े. आपने हमें पीड़ा के अग्निकुंड में धकेल दिया है. मैं समझ…

Read More

गांधी का ब्रह्मचर्य और स्‍त्री प्रसंग

नेहरू के विभिन्‍न स्‍त्रियों से सम्‍बन्‍धो की चर्चा तो हमेशा होती ही रही है किन्‍तु अभी गांधी जी के स्‍त्रियों के के सम्‍बन्‍ध पर मौन प्रश्‍न विद्यमान है। गांधी जी ने अपनी पुस्‍तक सत्‍य के प्रयोग में अपने बारे में जो कुछ लिखा है उसमें कितना सही है, यह गांधी से अच्‍छा कौन जान सकता…

Read More

पॉर्न का पंचनामा

इसे जो देखते हैं, वे इसके बारे में कुछ बोलना नहीं चाहते। जो नहीं देखते, वे इस पर बात नहीं करना चाहते और जो इसे समझते हैं, वे इसे बुरी बला मानते हैं। यह तासीर है पॉर्न के तीखे नशे की। इस नशे के सुरूर और इससे जुड़े सवालों का जवाब तलाशने की कोशिश कर…

Read More

सिन्दूर से दूर क्यों?

सिन्दूर से दूर क्यों? ***************** कितने बुद्धिमान थे हमारे पूर्वज प्राचीन काल में :- महिलाओ के लिए एक नियम बनाया गया की विवाह के बाद नए ससुराल में विभिन्न प्रकार के मानसिक दबाव और उनके कारण होने वाली बीमारियों से दूर रहने के लिए एक औषधि (सिंदूर) अपनी बालो की माँग में लगाना है महिलाये…

Read More

मर्दों के खेल में औरत का नाच

शिक्षा, सत्ता और संपत्ति से स्त्रियों को सदियों तक वंचित रखा गया. आज भारत की स्त्री के पास मुक्ति की जो भी चेतना है वह उसके लिए बीसवीं शताब्दी का उत्तरार्द्ध ही ले कर आया है. स्त्री स्वातंत्र्य की इस चेतना ने हमारा जीवन बदल दिया. आज जिस जमीन पर हम खड़े हैं उसे तैयार…

Read More

क्या भारत मे सेक्स क्रांति की शुरुवात हो चुकी है ?

भारत में स्त्री-पुरुषों के संबंधों में जितना बदलाव पिछले दस सालों में आया है उतना शायद पिछले तीन हज़ार सालों में भी नहीं हुआ है. सेक्स अब रज़ाइयों के दायरे से निकल कर बैठकों की दहलीज़ को छू रहा है. संबंधों का पुराना फ़ार्मूला था पहले शादी, फिर सेक्स और उसके बाद प्यार. नए फ़ार्मूले…

Read More