गर्मियों में खस का शरबत पीने का क्या है महत्व !

vetiver

खस में कैल्शियम, पोटेशियम, मैग्नीशियम और आयरन जैसे खनिज:

गर्मी के मौसम में अपने आपको तरोताजा रखने के लिए समय समय पर पानी पीते रहें। पानी के अलावा ऐसे कई और पेय पदार्थ हैं जिनका आप गर्मियों में सेवन कर सकते हैं। जैसे नीम्बू पानी,गन्ने का जूस, फ्रूट जूस, खस शरबत, ब्राह्मी शरबत, आम पन्ना आदि इस मौसम में खुद को हाइड्रेट रखना ना भूलें।

खस का पौधा पानी वाली जगह जैसे झील, तालाब, नदी आदि के किनारे अपने आप उग आता है। उत्तर भारत के राजस्थान, उत्तर प्रदेश, बिहार व दक्षिण भारत में केरल, कर्नाटक आदि राज्यों में खस की खेती की जाती है।

यह भी पढ़ें : सावधान : गर्मियों के साथ आने वाली हैं ये पांच बीमारियाँ, जानें कारण और बचाव

खस का प्रयोग गर्मियों में चलने वाले कूलर फैन में महकने वाली घास के रूप में किया जाता है। लकड़ी की छीलन के बीच में इसे लगाने से कूलर से बढ़िया भीनी भीनी तरावट वाली खुशबू आती है।

used in air cooler

खसखस के पौधे के मादक गुणों के कारण लोगों को खसखस के सेवन को लेकर चिंता होती है। यह सच है कि इसके कच्चे बीजों में मॉर्फिन जैसे अल्फ़ाइड होता है।

एक दर्द निवारक जिससे नशे की आदत भी लग सकती हैलेकिन इसके पके बीजों में ये न की मात्रा में होता है जिससे किसी भी प्रकार की लत नहीं लगती है।

यह भी पढ़ें : लूज मोशन से है परेशान, तो इन घरेलू उपायों से पाएं चुटकियों में निजात !

खस के फायदे:

खस का प्रयोग गर्मियों में खस का शरबत बनाने में किया जाता है। यह शर्बत पीने से प्यास बुझती है, शरीर की जलन मिटती है, दिमाग और शरीर में तरावट आती है और गर्मियों के त्वचा रोग भी नष्ट होते हैं।

khaskhas

इसके अलावा खस का प्रयोग ह्रदय रोग, उल्टी, त्वचा रोग, बुखार, धातुदोष, सिरदर्द, रक्त विकार, पेशाब की जलन, सांस के रोग, पित्त रोग, मांसपेशियों की ऐंठन, हार्मोनल समस्याओं में भी फायदेमंद है।

यह भी पढ़ें : गर्मी में ऐसे अपनी त्वचा की करें देखभाल !

खसखस खुजली और त्वचा पर चकत्ते जैसे त्वचा संक्रमण के उपचार के लिए भी बहुत फायदेमंद हैं। इस में सूजन-विरोधी गुण पाए जाते हैं जो त्वचा के संक्रमण से मुकाबला करने में मदद करते हैं।


Related posts

Leave a Comment