Obesity

90 प्रतिशत लोग अपने बढ़ते हुए वजन से परेशान :

आज लगभग 90 प्रतिशत लोग अपने बढ़ते हुए वजन से परेशान हैं। मोटापा दिखने में जितना बुरा लगता है उतना ही हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक भी होता है। क्योंकि मोटापा जब आता है तो अकेले नहीं आता, बल्कि अपने साथ कई बीमारियां भी साथ लाता है। आजकल ना सिर्फ बड़े-बुजुर्ग बल्कि छोटे छोटे बच्चे भी ओबेसिटी के शिकार हो रहे हैं। जिसका कारण खानपान के साथ-साथ हमारा लाइफस्टाइल भी है। ओबेसिटि ओवरवेट की मुख्य वजह है।

हमारे देश में खाने के तौर तरीके ऐसे हैं जो अच्छे व आदर्श भोजन के दुश्मन हैं। तला-भुना खाना, घी-मक्खन का अधिक इस्तेमाल, जंक फूड का बढ़ता प्रकोप और घर के खाने से दूरी आपकी सेहत के लिए हानिकारक साबित हो रहे हैं। हानिकारक भोजन का सेवन करनेे से शरीर में चर्बी जमा होने लगती है। ये चर्बी पेट, थाईस, हिप, बाजू के ऊपर व कमर के नीचे के हिस्से में चर्बी के रूप में जमा होने लगती है। आज हम आपको मोटापा घटाने की कुछ आसान टिप्स बता रहे हैं।

ये भी पढ़ें :मोटापा है क्या.. ये है जादुई फार्मूला!

सोडा और दूसरे सॉफ्ट ड्रिंक्स को अपनी डाइट से रखें दूर :

अगर आपको भी मोटापे की समस्या है तो पानी का सेवन अधिक करें। सोडा और दूसरे सॉफ्ट ड्रिंक्स को अपनी डाइट से बिल्कुल हटा दें। क्योंकि ये आपके मोटापे की प्रमुख वजह हो सकते हैं। इन पेय-पदार्थों में पर्याप्त मात्रा में कैलोरी होती है जिससे वजन बढ़ता है।

आप के लिए एक बहुत काम की जानकारी है कि सोने के तरीके से भी मोटापा बढ़ता है। अगर आप अपने सोने के तरीके पर ध्यान देंगे तो आपकी मोटापे की समस्या हल हो सकती है। क्योंकि सोने का तरीका हमारी बहुत सी परेशानियों को दूर करने में मददगार होता है। सामान्य रूप से एक शख्स को सात से आठ घंटे की नींद जरूर लेनी चाहिए। नींद की कमी के चलते भी मोटापा बढ़ता है।

ये भी पढ़ें :सर्दियों में क्या खाएं जिससे बने सेहत और सर्दी हो जाये छूमंतर !

क्रैश डायट से परहेज

क्रैश डायट से आपको बेहद जल्दी अपना वजन कम करने में जरूर मदद मिलती है, लेकिन हकीकत में वजन का तेजी से घटना चर्बी गलने से कम और शरीर से पानी निकलने और मांसपेशियों के गलने से ज्यादा होता है।

क्रैश डायट के खत्म करते ही जो भी थोड़ी सी चर्बी गली है, फिर वापस आ जाती है। क्रैश डायट के कई साइड इफेक्ट भी हैं जैसै सिरदर्द, मतली और सांस की दुर्गंध. दूरगामी परिणामों के लिए खाने की आदतों में सुधार जरूरी है।

Comments

comments


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *