हल्की बूंदाबांदी लाई दिल्लीवालों के लिए खुशियां :

आखिरकार आ ही गया वो दिन,जब दिल्लीवालों को गुरुवार वाले दिन दिसंबर में साफ हवा में सांस लेने का मौका मिला। इससे पहले नवंबर-दिसंबर में 2015 में ऐसा मौका आया था, जब एयर इंडेक्स 200 पॉइंट से नीचे रहा है।

बताया जा रहा है कि आने वाले दो से तीन दिनों तक एयर इंडेक्स 200 से नीचे रह सकता है। इसके लिए सीपीसीबी समेत ईपीसीए ने भी प्रयास शुरू कर दिए हैं।सीपीसीबी के अनुसार, दिल्ली का एयर इंडेक्स गुरुवार को महज 194 रहा। 7 अक्टूबर के बाद दिल्लीवालों ने इतनी साफ हवा में सांस नहीं ली है। बुधवार शाम को हुई हल्की बूंदाबांदी को इसकी वजह बताया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: पाल्युशन से लड़ने को Artificial Rain पर विचार कर रही दिल्ली सरकार

मेट्रो स्टेशन पर ऑक्सिजन चैंबर:

प्रदूषण की मार झेल रहे लोगों को अब साफ हवा में सांस लेने का मौका मिल रहा है। प्रदूषित इलाकों में मेट्रो स्टेशन के बाहर ऑक्सिजन चैंबर बनाए जा रहे है। अभी हुड्डा सिटी सेंटर मेट्रो स्टेशन पर ऑक्सिजन चैंबर बनाया जा चुका है। यहां रोजाना करीब दो हजार लोग फ्री में चैंबर का लाभ उठा रहे है। इसके अलावा छह अन्य चैंबर की तैयारियां शुरू कर दी गई है।

इन ऑक्सीजन चैंबर को पौधों और ऐसे पेड़ों से तैयार किया गया है जो प्रकृतिक तरीके से अंदर की हवा में ऑक्सिजन की मात्रा को बढ़ाते हैं। लोग ऑक्सिजन चैंबर में आराम फरमा कर कुछ स्वच्छ सांसें ले सकते हैं। चैंबर में बैठने के लिए कोई फीस नहीं है। इस पहल को नर्चिंग ग्रीन की तरफ से शुरू किया गया है।

यह भी पढ़ें: प्रदूषण: आखिरकार दिल्ली क्यूँ बेबस है, इन जहरीली हवाओं में सांस लेने को

एलोविरा, एरिका पाम और सेंसपीरिया जैसे पौधों का इस्तेमाल किया है:

दिल्ली में सर्दियों के दौरान प्रदूषित माहौल में सफर करना लोगों को परेशान करता है। खासकर गर्भवती महिलाओं, बच्चों, दमा, दिल की बीमारी आदि के मरीजों को प्रदूषण की वजह से काफी परेशानी होती है। ऐसे लोग हुड्डा सिटी सेंटर मेट्रो स्टेशन पर जाकर ऑक्सिजन चैंबर में बड़ी राहत महसूस कर रहे हैं।

इस चैंबर में हर रोज 1500 से 2000 लोग आ रहे हैं। चैंबर में ऐसे पौधों का इस्तेमाल किया है जो हानिकारक गैसों को कम कर ऑक्सिजन बढ़ाते हैं। इसके लिए एलोविरा, एरिका पाम और सेंसपीरिया आदि भी लगाए गए हैं।

Comments

comments


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *